त्रिफला चूर्ण के 8 फायदे, उपयोग और नुकसान – Triphala Benefits in Hindi and Side Effects

1
10
Triphala Churna Benefits in Hindi

Triphala Churna Benefits in Hindi :- जब हम बीमार होते हैं तो हमारा शरीर बहुत कमजोर हो जाता है और ज्यादातर बीमारियां हमारी लापरवाही और खान-पान की वजह से होती हैं, जो हमें कई तरह से घेर लेती हैं। थोड़ी सी समझ और नियमितता से, भोजन और व्यायाम से हम सभी बीमारियों को दूर कर सकते हैं।

जी हाँ दोस्तों आज हम एक ऐसे चूर्ण के बारे में बात करने जा रहे हैं जो न सिर्फ हमारे शरीर के लिए फायदेमंद है बल्कि समग्र स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाता है।

त्रिफला एक ऐसा चूर्ण है जो आयुर्वेदिक औषधि में सर्वोत्तम है। अगर हम स्वस्थ और लंबी उम्र चाहते हैं तो हमें आयुर्वेद के उपायों का इस्तेमाल करना होगा।

Triphala एक ऐसा चूर्ण है जिसे हर कोई अच्छी तरह से जानता है और ज्यादातर लोग इसका इस्तेमाल पेट से जुड़ी समस्याओं जैसे कब्ज और गैस आदि को दूर करने के लिए करते हैं।

लेकिन इन समस्याओं के दूर करने  के साथ-साथ त्रिफला कई अन्य बिमारियों और रोगो को ठीक करने के भी काम आता है।

जी हाँ दोस्तों triphala churna benefits in hindi language के साथ आज हम इस लेख में त्रिफला चूर्ण क्या है, त्रिफला के फायदे और इसे जुड़े कुछ नुक़्सानो के बारे में बताएँगे तो अंत तक हमारे लेख को पूरा पढ़ें।

तो आइये दोस्तों सबसे पहले जानते है  त्रिफला चूर्ण क्या होता है? – Triphla churna kya hota hai

त्रिफला चूर्ण क्या है? – What is Triphla Churna in Hindi

यह शब्द संस्कृत भाषा का शब्द है जो दो शब्दों से मिलकर बना है, त्रि + फला।

त्रि का अर्थ होता है तीन और फला का अर्थ होता है फल।

लेकिन यह ऐसा कोई फल नहीं है जो तीन फलो से मिलकर बना है, यह एक ऐसा मसाला या चूर्ण है जो तीन फलो के मिस्रण से बना है आंवला + बहेड़ा + हरड़।

यह चूर्ण विभिन्न शारीरिक समस्याओं को ठीक करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। वहीं  बात जब इन तीनों के मिश्रण की हो तो यह बहुत ही प्रभावी रूप से शारीरिक रोगो को ठीक करने के काम आता है।

त्रिफला चूर्ण स्वास्थ्य को कैसे लाभ पहुंचा सकता है, यह हम आगे बता रहे हैं।

अब आप जानते हैं कि त्रिफला चूर्ण क्या होता है। आइए अब सीधे triphla churna ke fayde के बारे में जान लेते है।

और पढ़ें :- अश्वगंधा के 10 फायदे, उपयोग और नुकसान – Benefits Of Ashwagandha In Hindi

त्रिफला चूर्ण के फायदे – Triphala Churna Benefits in Hindi

Benefits of Triphala Churna in Hindi
Benefits of Triphala Churna in Hindi

NCBI के एक वैज्ञानिक शोध से पाया गया है कि वजन घटाने से लेकर, डायबिटीज को कम करने तक और पेट से जुडी समस्याओं से लेकर कब्ज, गैस को खत्म करने तक त्रिफला चूर्ण बहुत ही फायदेमंद होता है।

इसके इतने सारे फायदों के देखकर ही हमने यह triphala churna ke fayde aur nuksan in hindi का लेख लिखा है।

आगे हमने त्रिफला चूर्ण के फायदे विस्तार से बताये है, उन्हें पढ़ना न भूले।

चलिए अब जानते है त्रिफला के फायदे हिंदी में – triphala churna ke fayde in hindi

वजन घटाने में त्रिफला के फायदे – benefits of triphala churna weight loss in hindi

यह चूर्ण आपके लिए बहुत सी बीमारियों को मिटाने के लिए उपयोगी है, इसके लगातार सेवन से आप अपना वजन कम और बढ़ा सकते हैं क्योंकि इसमें मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करने का गुण होता है जिससे आपके शरीर में जमी चर्बी खत्म हो जाती है और धीरे-धीरे आपका वजन भी कम होने लगता है।

भूख बढ़ाने के लिए त्रिफला के फायदे – Benefits of Triphala to increase Appetite

अगर आप दिन में एक बार त्रिफला चूर्ण का सेवन करते हैं तो यह आपके पाचन को ठीक रखता है और आपकी भूख बढ़ाने में मदद करता है। जिससे आप जरूरत से ज्यादा खाकर अपने दुबले शरीर से छुटकारा पा सकते हैं।

यह भूख बढ़ाने के साथ-साथ शरीर के भीतर लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाने का भी काम करता है, जिससे रक्त में शुद्धता आती है। रक्त शोधन के लिए आपको महंगे इलाज से भी नहीं गुजरना पड़ता है, इस चूर्ण को आप घर पर ही बना सकते हैं या बाजार से खरीद सकते हैं।

आंखों के लिए है फायदेमंद त्रिफला चूर्ण – triphala churna benefits for eyes in hindi

अगर आंखों में कोई समस्या है या बार-बार लाल हो रही है तो आप त्रिफला का इस्तेमाल करें, इससे आपकी आंखों की लाली दूर हो जाएगी। और आंखों की रोशनी बढ़ाने में भी मदद करेगी। इस उपाय को करने के लिए आप रात को सोने से पहले और सुबह उठने के तुरंत बाद त्रिफला का सेवन गाय के घी और शहद के मिश्रण के साथ करें।

इसे तांबे के बर्तन या मिट्टी के बर्तन में भरकर रात भर के लिए छोड़ दें और फिर इसका सेवन करने से आपको काफी लाभ मिलेगा। और इससे आपकी आंखें स्वस्थ रहेंगी। अगर आपके पास समय की कमी है तो आप इसका काढ़ा बनाकर पीएंगे तो आपको बहुत फायदा होगा।

त्रिफला चूर्ण का प्रयोग रोगों को दूर करने के लिए  – Triphala Churna for  cure diseases 

इस त्रिफला को बनाने के लिए रासायनिक अभिक्रिया के अनुसार तीनों फलो को मिलाया जाता है, जिसमें एक भाग हरड़, दो भाग बहेड़ा और एक चौथाई भाग आंवला होता है, फिर इन तीनों के मिश्रण को धूप में सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है और जब यह सूख जाए तब इसके पाउडर को गिलास में छान लें, ताकि इसमें जमा हुआ मोटा कचरा निकल जाए।

त्रिफला चूर्ण बनाने पर यह थोड़ा कड़वा, खट्टा, तीखा, मीठा और नमकीन हो जाता है क्योंकि यह तीनों फलों के रस का मिश्रण होता है। और यह सभी बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है। यह एक आयुर्वेदिक औषधि है जो दृष्टि को बढ़ाती है, रक्त परिसंचरण में सुधार करती है, जीवन को लम्बा खींचती है और स्वस्थ होती है। जो की हमारे लिए बहुत फायदेमंद है।

त्वचा के लिए लाभदायक है त्रिफला का चूर्ण – triphala churna benefits for skin in hindi

त्वचा को स्वस्थ बनाने के लिए आजकल बाजारों में कई कॉस्मेटिक क्रीम उपलब्ध हैं, लेकिन उनका प्रभाव कुछ समय तक रहता है, लेकिन स्थायी समाधान के लिए आपको अपनी त्वचा को अंदर से शुद्ध करना चाहिए और इसके लिए आपके लिए अपने रक्त को शुद्ध करना बहुत जरूरी है।

और रक्त को शुद्ध करने के लिए आप triphala churna का इस्तेमाल कर सकतें है।

अपनी त्वचा को निखारने के लिए यदि आप त्रिफला का सेवन शहद के साथ करेंगे तो आपको और भी अधिक लाभ मिलेगा। क्योंकि यह रक्त में मौजूद दूषित पदार्थों को दूर करता है और इसमें आंवला भी होता है जो शरीर में कोलेजन बनाता है और आपकी त्वचा को रंजकता देता है।

शहद के साथ त्रिफला चूर्ण का सेवन करने से शरीर में विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पहुंचता है, जिससे त्वचा अंदर से दमकने लगती है, इसलिए आपको किसी एंटी-एजिंग क्रीम की जरूरत नहीं है। क्‍योंकि त्‍वचा पर झुर्रियां दूर करने में विटामिन सी सबसे अच्‍छा माना जाता है।

दांतों को मजबूत बनाने के लिए करें त्रिफला चूर्ण का प्रयोग – triphala churna benefits for teeth in hindi

यदि आपके दांत हिलने लगे या उनमे कमजोरी आ गई है तो इस समस्या को दूर करने के लिए आप त्रिफला के चूर्ण का सेवन करें या फिर आप सबसे पहले त्रिफला को रात भर पानी से भिगोकर सुबह तक के लिए रखें फिर सुबह  ब्रश करने से पहले इसके चूर्ण से कुल्ला करें, ऐसा करने से आपके दाँत और मसूड़े बुढ़ापे तक के लिए मजबूत बने रहते है।

यह उपाय आपके लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होगा। अगर आप इस उपाय को रोजाना आजमाते हैं तो आप अपने मुंह से आने वाली दुर्गंध को भी दूर कर सकेंगे। अगर आपके होठों पर बार-बार छाले पड़ जाते हैं तोआप दिन में एक बार त्रिफला चूर्ण को शहद के साथ चाट लें, क्योंक यह आपके होठों के छाले को ठीक करने के साथ-साथ आपके पेट के कीड़े को भी मारता है।

बालों के लिए त्रिफला के चूर्ण का सेवन करें – triphala churna benefits for hair in hindi

बालों को सुंदर और लंबा बनाने के लिए त्रिफला चूर्ण का प्रयोग करें। त्रिफला में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है और यह बालों के स्वास्थ्य में भी सुधार करता है। त्रिफला में आंवला भी मौजूद होता है, जिसके गुण बालों को काला और घना बनाने में मदद करते हैं।

इसके चूर्ण को पानी में घोल लें और इससे बने पेस्ट को अपने बालों में करीब एक घंटे के लिए लगाकर रखें और फिर जब यह सख्त हो जाए तो बालों को ठंडे पानी से धो लें। अगर आप नारियल के तेल से मालिश करेंगे तो आपको ज्यादा फायदा होगा। बालों को सुंदर और स्वस्थ बनाने के लिए इस उपाय को हफ्ते में दो बार करें।

कब्ज दूर करने में है त्रिफला का चूर्ण है फायदेमंद – triphala churna benefits for Constipation in hindi

जैसा कि आप लोग पाते हैं, त्रिफला एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक औषधि है। triphala ke churna का प्रयोग ज्यादातर पेट में गैस और कब्ज को दूर करने के लिए किया जाता है। जब आपके पेट में बहुत दर्द हो रहा हो या खाना खाने के बाद पेट में गैस बन रही हो या अपच हो तो त्रिफला चूर्ण का सेवन करना चाहिए।

और पढ़ें :- शिलाजीत के 8 फायदे, उपयोग और नुकसान – Shilajit Benefits In Hindi And Side Effects

त्रिफला चूर्ण के नुकसान – Side Effects of Triphala Churna in Hindi

यह चूर्ण सर्वथा लाभकारी माना गया है और इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। यह बिल्कुल सही है। लेकिन ज्यादा मात्रा में सेवन करने से इसके फायदे की जगह नुकसान हो सकता है।

जी हाँ, त्रिफला के सेवन से triphala ke nuksan भी हो सकतें है। हम नीचे कुछ नुक़्सानो के बारे में बता रहे है उन्हें पढ़ना न भूले।

  • अवसाद दवा के प्रभाव को कम कर सकते हैं। त्रिफला में मौजूद हरड़ को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान त्रिफला का सेवन नुकसान पहुंचा सकता है।
  • लो शुगर के मरीजों द्वारा सेवन करने से यह शुगर के स्तर को और कम कर सकता है।
  • इसमें मोजोद हरड़ डायरिया जैसे बिमारियों को जन्म दे सकता है।

त्रिफला का चूर्ण लेने से पहले ध्यान रखें ये बातें – Before taking Triphala Churna Keep These Things in Mind 

इस चूर्ण का सेवन करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे पेट में गैस या कब्ज होने पर ही इसका प्रयोग करें, लीवर या किडनी में दर्द हो तो इससे बचें और रात को सोने से आधा घंटा पहले 5 ग्राम त्रिफला चूर्ण ईसबगोल के साथ लें। दो चम्मच की मात्रा में गुनगुने पानी या दूध के साथ इसका सेवन करें।

निष्कर्ष (Conclusion)

आशा करता हूँ की अब आप triphala churna uses in hindi को सही से लाभ उठा पाए होंगे। अगर आपको dabur triphala churna benefits in hindi से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट के जरिये जरूर बताएं।

अगर आपको हमारी यह patanjali triphala churna benefits in hindi का लेख पसदं आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

और पढ़ें :- आयुर्वेद श्रेणी के बारे में

1 comment

Leave a reply