ताड़ासन करने की विधि, लाभ और सावधानियां

Tadasana in Hindi

Tadasana in Hindi

इस शांत और बिजी लाइफस्टाइल के बीच स्वस्थ रहना काफी कठिन काम हो जाता है। फलस्वरूप, शरीर और दिमाग कई अन्य बीमारियों या समस्याओं से घिर जाता है।

ऐसे में योगासन या योगिक मुद्राओ का अभ्यास करना एक स्वस्थ विकल्प रह जाता है। यह न सिर्फ आपके स्वस्थ को सुधारेगा बल्कि एक स्वस्थ जीवनशैली जीने में भी मदद करेगा।

इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए आज हम इस लेख के मध्यम से एक खास आसन ‘Tadasana’ के बारे में बताने जा रहे हैं।

इस आर्टिकल के जरिये आप जान पाएंगे कि ताड़ासन क्या है, ताड़ासन करने की विधि , ताड़ासन करने के फायदे और ताड़ासन की कुछ सावधानियां।

तो चलिए जान ताड़ासन क्या है :-

ताड़ासन क्या है (What is Tadasana in Hindi)

यह शब्द संस्कृत भाषा के शब्द है जो दो शब्दो से बने है तड़ा +आसन। तड़ा का अर्थ होता है पर्वत (Mountain) और आसन का होता है मुद्रा (Pose)।

इस आसन को Mountain Pose या पहाड़ की मुद्रा इसलिए कहा जाता है क्योंकि, यह आसन करते समय शरीर पर्वत के समान सीधा और स्थिर दिखाई देता है।

ताड़ासन (Tadasana) योगिग मुद्रा का  एक आसन है। जिसमे दोनों भुजाओं और शरीर को ऊपर करके खिंचाव लाने की आवश्यकता होती है।

यह आसन लंबाई बढ़ाने के साथ कई शारीरिक लाभ प्रदान करता है। जो शारीरिक और मानसिक बीमारियों या समस्याओं को खत्म कर सकता है।

इसके आलावा यह  रीढ़ की हड्डी को मजबूत और कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में काफी मददगार है।

ताड़ासन के लिए समय निर्धारित करें (Set time for Tadasana)

 योगासन में बहुत से आसन ऐसे है जोकि एक निश्चित समय पर ही किये जाते है। लेकिन ताड़ासन एक ऐसा आसन है जो कभी भी और कहीं भी किया जा सकता है।

 इस आसन को कभी भी चाहे वह सुबह हो या शाम आप अपने मुताबित किसी एक समय को चुनकर इसका अभ्यास कर सकते है। केवल इसमें शर्त यह है कि खाना खाने के बाद इस आसन का अभ्यास न करें।

क्योंकि खाना खाने के तुरंत बाद यह हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। खाना खाने के लगभग 3 से 4 घंटो का समय अवश्य रखें।

ताड़ासन करने की विधि (Tadasana Steps in Hindi)

ताड़ासन करने की विधि (Tadasana steps in hindi)

ताड़ासन करने की विधि बहुत ही आसान और सरल है। यह आसन उन मूल आसनों में से एक है। जिसे बड़ी आसानी और धैर्य के साथ किया जा सकता है। बस ध्यान में यह रखें की इसे सहज और सरल रूप के साथ करें।

शुरुवाती दिनों में योग शिक्षक इसे करने की सलहा देते है। क्योंकि, अन्य आसनों का अभ्यास करने से शुरू में आपको उतने लाभ नहीं मिलेगा, जितना कि आपको Tadasana से मिलता हैं।

  • इस आसन को करने के लिए सबसे पहले स्वच्छ और खुले वातावरण का चुनाव करें। फिर योग मैट या चटाई का उपयोग करें।

  • अब चटाई या योग मेट पर सावधान की अवस्था में सीधा खड़े हो जाएँ, एक स्थिर बॉडी को बनाएं रखें।

  • पैरों के पंजों को लगभग 10 से 12 सेंटीमीटर तक खोलें और शरीर का वजन दोनों पैरो पर समान रखें।

  • अब हाथों की अंगुलियों को आपस में मिलाते हुए या उन्हें फंसाकर दोनों बाजुओं को आकाश में ऊपर उठाएं।

  • इसके बाद, कंधे, छाती और भुजाओं को आकाश की ओर खींचें, अर्थात शरीर को ऊपर की ओर stretch करें और अपने पैरों के पंजों पर खड़े हो जाएं, जैसा कि इमेज में दिखाया गया है।

  • एक स्थिर और संतुलित शरीर को बनाएं रखें और शरीर को बिना किसी हलचल के ताने रखें।

  • सांस को अंदर-बहार लेते रहे और कुछ मिनट तक यानि एक या डेढ़ मिनट तक इस अवस्था में बने रहे।

  • शुरुआती समय में यह आसन करने में काफी कठिनाई हो सकती है लेकिन निरंतर अभ्यास के साथ इसमें सफलता हासिल की जा सकती है।

  • इस अभ्यास को लगभग एक या डेढ़  मिनट तक करें और इस तरह से इसे 5 से 10 बार करें।

वीडियो के माध्यम से ताड़ासन करने की विधि जाने :-

ताड़ासन करने के फायदे (Benefits of Tadasana in Hindi)

इस आसन के माध्यम से कई लाभ मिल सकते हैं। वह अपनी स्वस्थ जीवन शैली में इन लाभों का आनंद ले सकता है। अगर आप इस आसन को सही तरीके से और सही मुद्रा के साथ करते हैं, तो आप इसका लाभ उठा सकते हैं।

  • हाइट बढ़ाने के लिए ताड़ासन
  • पीठ दर्द से राहत दिलाता है ताड़ासन
  • सही पोस्चर के लिए ताड़ासन
  • घुटनों के दर्द के लिए फायदेमंद है ताड़ासन
  • एकाग्रता को बढ़ाने के लिए ताड़ासन
  • अंगों को मजबूत बनाने के लिए ताड़ासन

1. हाइट बढ़ाने के लिए ताड़ासन (Tadasana to Increase Height)

यह आसन बच्चों की हाइट बढ़ाने के लिए काफी मददगार है। इस आसन से बॉडी को ऊपर की ओर स्ट्रेच किया जाता है जोकि हाइट बढ़ाने के लिए सहायक है। इस विधि या आसन के द्वारा किशोरावस्था के बच्चों की हाइट बढ़ाई जा सकती है।

अगर आप हाइट बढ़ाने के लिए काफी उपाय कर चुके है तो एक बार ताड़ासन को करके देखें आपको बहुत ही बहतरीन परिणाम मिलेंगे।

इसके आलावा, अगर आप बच्चो की हाइट से संबधित कुछ भी जानना चाहते है तो नीचे दिए हुए लिंक पर जाकर पढ़ सकते है।

2. पीठ दर्द से राहत दिलाता है ताड़ासन (Relief from Back Pain)

आज के समय में बहुत से लोगो को पीठ दर्द की शिकायत रहती है। वह इस समस्या से बहुत परेशान है और इसके लिए वह बहुत से उपाय व इलाज करवा चुके है, फिर भी उन्हें इस समस्या से छुटकारा नहीं मिल रहा है। 

अगर आप इस समयसा से छुटकारा पाना चाहते है तो  इस आसन को करके देखिए। क्योंकि, यह आसन पीठ दर्द के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है।

योग शिक्षकों का कहना है कि यह आसन पीठ दर्द के लिए उस जड़ी-बूटी के समान है जिसकी आवश्यकता सबको रहती है।

3. सही पोस्चर के लिए ताड़ासन (Perfect Posture)

यह आसन शरीर के पोस्चर को ठीक करने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। क्योंकि कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें जानना आवश्यक होता है, जोकि शरीर के पोस्चर खराब कर सकता है।

देखिए, अगर आपका काम दिन भर में थका हुआ या गतिहीन है या लंबे समय तक बैठे या खड़े रहना का हैं, तो आपके शरीर की पोस्चर खराब हो सकता है। जिसकी वजह से आप भद्दे दिखाई दे सकते है।

अगर आप इस आसन को नियमित और निरंतर के साथ करेंगे तो में दावे के साथ कह सकता हूँ की यह आपके posture को पहले के मुकाबले स्थिर रूप से बेहतर कर देगा।

4. घुटनों के दर्द के लिए फायदेमंद है ताड़ासन (Beneficial for knee Pain)

यह आसन घुटनो के दर्द से राहत दिलाने के लिए प्रभावी है। हमने देखा है कि बहुत से लोगो को घुटनों के दर्द की शिकायत रहती है। फिर भी, वे इस दर्द से छुटकारा पाने में विफल हो जाते है । ऐसा क्यों है ?

देखिए, वे इस समस्यां से छुटकारा पाने के लिए दूसरी चीजों को इस्तेमाल कर लेते है। परन्तु, वे इस आसन को नहीं करते है।

अगर आप इसको नियमित और निरंतर के साथ करने लग जाएँ तो घुटनो के दर्द के साथ कई समस्याएं भी दूर हो सकती है।

5. एकाग्रता को बढ़ाने के लिए ताड़ासन (Increase Concentration)

इस आसन के निरंतर अभ्यास से एकाग्रता शक्ति (Concentration power) बढ़ती है। आपने देखा होगा कि इस आसन को लंबे समय तक एक ही मुद्रा को बनाए रखना होता है। जिससे एकाग्रता में वृद्धि होती है।

यह आसन एकाग्रता शक्ति के साथ-साथ बॉडी को संतुलित रखने में भी मदद करता जिससे शरीर का समन्वय स्थिर रहता है।

अगर आप एकाग्रता के साथ संतुलन को भी बनाये रखना चाहते है तो यह आसन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होगा।

6. अंगों को मजबूत बनाने के लिए ताड़ासन (To strengthen limbs)

योगासन और योगिग मुद्राएं शरीर के अंगों को मजबूत बनाने में सहायक होते हैं। यह आसन घुटने के दर्द से राहत देने के साथ-साथ शरीर के अंगों को मजबूत बनाने में कारगर होते है।

शोध में यह पाया गया है कि ताड़ासन जांघ, घुटने, टखनों और भुजाओ को मजबूत बनाने के साथ रीढ़ की हड्डी मजबूत बनाने और सीधा रखने में मददगार होते है।

ताड़ासन करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स (Some important tips)

  • शुरुआती दिनों में, इस आसन को बिना किसी तनाव के और बिना किसी अनावश्यक जोर के साथ करें।

  • इस आसन को हमेशा खाली पेट और खुले वातावरण में करें।

  • अगर आपको, पैर की उंगलियों पर खड़े होने में परेशानी हो रही है तो शुरुआती दिनों में आप पैर की उंगलियों पर खड़ा न हो। 

  • इस आसन को करते समय शरीर संतुलित नहीं रह पाता है तो आप किसी की मदद के साथ इसे करें।

ताड़ासन के लिए कुछ सावधानियां (Precautions for Tadasana)

  • यह आसन करते समय किसी भी प्रकार की कठिनाइयां एवं दर्द महसूस होने पर इस आसन को बिल्कुल भी ना करें। 

  • अगर आपको सिरदर्द या पीठ दर्द है, तो इस आसन को न करें।

  • अगर आपको नींद ना आना या लो ब्लड प्रेशर की समस्या है तो आप इस आसन को बिल्कुल भी ना करें।

  • यह आसन गर्भवती महिलाओं और मासिक धर्म वाली महिलाओं को नहीं करना चाहिए। यदि वह इस आसन को करना चाहती है, तो योग शिक्षक या योग चिकित्सक की सलाह लेने के बाद इस आसन को करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *