Symptoms Of Dengue In Hindi – डेंगू बुखार के लक्षण, घरेलू उपचार और बचाव के उपाय (Dengue Fever)

symptoms of dengue in hindi

Symptoms of dengue in hindi :- इन दिनों मौसम बदलने के साथ-साथ बीमारियां भी बदल रही हैं, जिसका मतलब है कि बीमारियां गंभीर और जानलेवा होती जा रही हैं।

बीमारियों के फैलने के कई कारण होते हैं, जैसे हवा में प्रदूषण, पानी में, हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन में, इनके कारण पनपने वाले बैक्टीरिया बीमारियों का कारण बनते हैं।

हम एक ऐसे ही बढ़ते बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण के बारे में बात करने जा रहे हैं जो न केवल भारत के लोगों को प्रभावित करता है बल्कि दूसरे देशों के लोगों को भी अपनी चपेट में लेता है।

इस वायरल संक्रमण का नाम डेंगू है। यह एक मच्छर जनित वायरल संक्रमण है जो मच्छरों के काटने से फैलता है। जानकारों के मुताबिक डेंगू का मच्छर कोई आम मच्छर की प्रजाति नहीं है, यह एक खास किस्म का जहरीला मच्छर है, जिसके काटने से 3-5 दिनों के अंदर पूरे शरीर में वायरस फैल जाता है।

इस प्रकार का बुखार होने पर कई तरह के लक्षण (dengue ke lakshan) दिखाई देते हैं। डेंगू बुखार के तीन मुख्य प्रकार हैं – साधारण डेंगू का बुखार, डेंगू रक्तस्रावी बुखार (डीएचएफ) और डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस)। साधारण डेंगू का बुखार, जिसे शास्त्रीय रूप से डेंगू के रूप में भी जाना जाता है। डेंगू मादा एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर साफ पानी में पैदा होते है और ज्यादा ऊंचाई तक नहीं उड़ पाते है।

ऐसे मछरो और वायरल इंफेक्शन से बचने और घरेलु उपाय (dengue fever treatment in hindi at home) को जानने के लिए हमारे लेख को पूरा पढ़ें।

आगे हमने इस लेख में डेंगू क्या है? डेंगू बुखार के लक्षण और इसके उपचार भी बताएं है उन्हें पढ़ना न भूले।

चलिए अब जानते है डेंगू का बुखार क्या है इन हिंदी

डेंगू क्या है?

डेंगू एक मच्छर जनित वायरल संक्रमण या बीमारी है, जो मछरो के काटने से फैलती है। इस रोग में रोगी को तेज बुखार, सिर दर्द, कमजोरी, जोड़ों का दर्द, थकान आदि होता है।

इस बीमारी को अन्य नाम से Breakbone fever भी कहते है। यह बीमारी एक Flaviviridae family से संबंध सेरोटाइप नामक एक वायरस से फैलती है।

शोध के अनुसार यह संक्रमण 10 दिनों में ठीक हो जाता है, लेकिन समय पर डेंगू का इलाज न मिलने के कारण यह गंभीर रूप भी ले लेता है। उपचार के बिना, यह रक्तचाप में गिरावट, प्लेटलेट्स में कमी और यहां तक कि रोगी की मृत्यु का कारण भी बन सकता है।

और पढ़ें :- उल्टी रोकने के 8 आसान घरेलू उपाय – Home Remedies To Stop Vomiting In Hindi

डेंगू बुखार के लक्षण – symptoms of dengue in hindi

Dengue Symptoms In Hindi Language

डेंगू के इलाज से पहले डेंगू बुखार के लक्षण को जानना जरूरी है। इसके लक्षणों को पहचानकर हम इससे जुड़ी दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं। हमने नीचे कुछ dengue bukhar ke lakshan बताए हैं, उन्हें पढ़ना न भूलें।

तो चलिए जानते है डेंगू बुखार के लक्षण व डेंगू के उपचार – symptoms of dengue fever in hindi

  • तेज बुखार

  • सिर दर्द

  • आंखों में दर्द होना

  • पेट दर्द

  • उलटी आना

  • साँस लेने में

  • साँस लेने में कठिनाइयां

  • चिड़चिड़ापन या बेचैनी

  • जी मिचलाना

और पढ़ें :- वायरल बुखार के लक्षण, घरेलू उपचार और बचाव के उपाय – Symptoms, Causes And Home Remedies For Viral Fever In Hindi

डेंगू के बुखार के अन्य लक्षण –

  • डेंगू बुखार के बाद ठंड लगना, सिरदर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, आंखों के पीछे दर्द, भूख न लगना, गले में हल्की खराश, नाक और मसूड़ों से खून आना, शौच या उल्टी में खून आना डेंगू हेमोरेजिक फीवर (डीएचएफ) हो सकता है।
  • इसके अलावा यदि ऐसा महसूस हो कि तेज बुखार के बावजूद उसकी त्वचा ठंडी हो, रोगी बेहोश होने की कगार पर हो, नाड़ी कभी तेज तो कभी धीमी और रक्तचाप बहुत कम हो, तो डेंगू शॉक सिंड्रोम, डेंगू का बुखार हो सकता है। डेंगू के इलाज के लिए आप किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं या प्राथमिक उपचार के लिए मरीज को पैरासिटामोल नाम की गोली दे सकते हैं।

  • यदि बुखार अधिक गंभीर है, तो आपको रोगी के रक्त की जांच करानी चाहिए। इन दवाओं के अलावा आप डेंगू के इलाज के लिए घरेलू उपचार भी कर सकते हैं और denge fever में अगर शरीर में विटामिन की मात्रा पूरी हो जाए तो इससे बढ़िया बात ही नहीं है। विटामिन की पूर्ति के लिए आप संतरे या मौसमी को खिला सकते है।

डेंगू बुखार के जोखिम कारक – Risk factors of dengue fever in Hindi

ऐसे निम्नलिखित फेक्टर्स होते है जो डेंगू के होने में अपना रोल अदा करते है। कुछ ऐसे ही कारक है जो हम लेकर है उन्हें पढ़ना न भूलें।

तो चलिए जानते है डेंगू फीवर होने के कारक

डेंगू संक्रमित क्षेत्र में रहना

देखिए, अगर आप किसी ऐसे संक्रमित इलाके में रहते हैं जहां डेंगू का प्रकोप ज्यादा है, तो आपको संक्रमण होने की संभावना ज्यादा है।

क्योंकि ऐसे संक्रमित क्षेत्र में रहने से भी आपको डेंगू का बुखार होने का खतरा बना रहता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर होना

जिन लोगों की इम्युनिटी कमजोर होती है उन्हें भी डेंगू होने की संभावना ज्यादा होती है। ऐसे में बुजुर्गों और बच्चों को डेंगू होने की ज्यादा आशंका रहती है। साथ ही मधुमेह, फेफड़ों की बीमारियों और हृदय रोगों से पीड़ित रोगियों में भी डेंगू का खतरा बढ़ जाता है।

लो प्लेटलेट

डेंगू का इलाज तब और भी गंभीर हो जाता है जब मरीज के खून में प्लेटलेट्स (क्लॉटिंग सेल्स) की संख्या बहुत कम हो जाती है। ऐसे में डेंगू होने का खतरा बढ़ जाता है। यदि आपको डेंगू है, तो अपने प्लेटलेट्स काउंट लेवल की पहले ही जांच करा लें।

क्योंकि लौ प्लेटलेट्स (क्लॉटिंग सेल्स) की कमी के कारण रोगी जल्दी डेंगू की चपेट में आता है।

डेंगू बुखार के लिए घरेलू उपचार – dengue fever treatment in hindi at home

Dengue Fever Treatment In Hindi At Home

आमतौर पर रोगी के डेंगू लक्षणों के आधार पर ही dengue ka gharelu upchar किया जाता है। वैसे तो डेंगू के बुखार के लिए कोई खास दवा तो नहीं है, लेकिन आप dengue se bachne ke upay कर सकतें है, जिससे हमने नीचे विस्तार से बताया है।

तो चलिए जानते है डेंगू बुखार का इलाज

नीम के फायदे है डेंगू बुखार में

डेंगू fever में नीम के पत्तों का रस पीने से बहुत से फायदे होते है। खासतौर पर नीम के पत्तों का रस पीने से गिरी हुई प्लेटलेट्स (Platelets) और सफेद रक्त कोशिकाएं (white blood cells) की संख्या में बढ़ोतरी होती है।

यह हमारी इम्युनिटी सिस्टम में सुधार करता है और डेंगू के इलाज के दौरान हमारी मदद करता है।

गिलोय है फायदेमंद डेंगू बुखार के इलाज के लिए – Giloy is beneficial for the dengue treatment in hindi

गिलोय एक औषधीय जड़ी बूटी है जो कई बीमारियों को दूर करने में मदद करती है। गिलोय के तने को उबालकर इसका काढ़ा बनाकर पीने से यह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है और डेंगू के संक्रमण को कम करता है।

नारियल पानी से करें डेंगू का इलाज

देखें, जब डेंगू होता है तो प्लेटलेट्स गिरने लगती है, प्लेटलेट्स गिरने से मृत्यु की सम्भावना बढ़ जाती है। ऐसे में Dengue ke ilaj के लिए नारियल पानी पीना बहुत फायदेमंद होता है।

इसमें मौजूद सभी जरूरी पोषक तत्व शरीर को मजबूत बनाते है और Dengue से छुटकारा दिलाते है।

जौ से करें डेंगू का इलाज

डेंगू के संक्रमणके दौरान खून में प्लेटलेट्स (Platelets) की संख्या कम हो जाती है, जिससे मौत भी हो सकती है। ऐसे में जौ घास का सेवन करना बहुत ही फायदेमंद होता है।

यह रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को ठीक करके शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या को बढ़ाता है। इसलिए जौ का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। जौ की घास का काढ़ा बनाकर पीएं। यह डेंगू के लक्षणों को कम करने में बहुत प्रभावी है।

पपीते से करें डेंगू का घरेलू इलाज

पपीते के पत्ते डेंगू के बुखार में बहुत ही लाभदायक होते है। अगर आपको डेंगू का बुखार हो जाता है तो किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह से पपीते का सेवन करें। क्योंकि पपीते में मौजूद सभी पोषक तत्व गिरे हुए प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने में मदद करते हैं।

डेंगू वायरस में फायदेमंद है चुकंदर

चुकंदर के जूस में उच्च मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। एक गिलास गाजर के रस में दो से तीन चम्मच चुकंदर का रस मिलाकर पीने से खून में प्लेटलेट्स तेजी से बढ़ते हैं।

डेंगू बुखार के लिए अन्य घरेलु उपचार – home remedies for dengue in hindi

  • आप दवाओं के साथ-साथ कुछ घरेलू नुस्खे भी आजमा सकते हैं जिससे आपको डेंगू से जल्दी राहत मिल सके, जैसे हल्दी और दूध का मिश्रण। रोज सुबह-शाम हल्दी वाला दूध पीने से शरीर मजबूत रहता है।

  • और इसी के साथ आप तुलसी को पानी में उबालकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर सेवन करने से आपका रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार आता है।

  • डेंगू की बुखार में गिलोय की बेल बहुत फायदेमंद होती है। इसके साथ ही यह शरीर में ब्लड प्लेटलेट्स की मात्रा को बढ़ाने में भी मदद करता है। गिलोय की बेल को काटने के बाद उसे पानी में उबालकर उस पानी को ठंडा करके रोगी को पिलाने से शरीर में रक्त प्लेटलेट्स 45 मिनट बाद ही बढ़ने लगते हैं।

  • डेंगू बुखार को भी मेथी के पत्तों से कम किया जा सकता है, यह बहुत ही आसान और सस्ता उपाय है। इसके लिए आपको मेथी के पत्तों को लेकर पानी में रखना है और इस पानी को पीने से डेंगू के बुखार में आराम मिलता है और पीड़ित का दर्द दूर हो जाता है

  • आप पपीते के पत्तियों का इस्तेमाल भी कर सकते है। इस उपयोग के लिए पपीते की पत्तियों कूट कर इसका रस पीने से आपका सर में दर्द, कमजोरी महसूस होना, उबकाई आना, थकान महसूस होना आदि जैसे बुखार के लक्षण कम हो जाते है।

  • जैसा कि आप जानते हैं कि एडिज अगिपट्टी मच्छर ज्यादातर दिन में काटते हैं, वे खाली कंटेनर और गंदी जगहों में प्रजनन करते हैं, जिससे डेंगू जैसी खतरनाक बीमारियां फैलती हैं। इस मच्छर को पनपने से रोकने के लिए आप अपने घर के आस-पास कहीं भी पानी जमा न होने दें और साफ-सफाई का ध्यान रखें।

डेंगू मच्छरों को रोकने के लिए, इन तरीकों का पालन करें –

  • इसके लिए आप छत पर रखे हुए खली पीपे, टायर, पुराने गमले आदि में पानी ज्यादा दिनों तक न रहने दें। हमेशा खाली बाल्टी और बर्तनो को अपने घरों की छतो पर उल्टा करके रखें। अपने घरों के आस-पास, नजदीकी क्षेत्रों और नालियों में नियमित रूप से मच्छर-नाशकों का प्रयोग करें।

  • यह सुनिश्चित करें कि घर के दरवाजे और खिड़कियों की जालियां फटी हुई न हो। यदि आपके घर में कोई डेंगू से पीड़ित है, तो सुनिश्चित करें कि उन्हें या घर के किसी अन्य सदस्य को मच्छर दोबारे न काटे। सोने से पहले हमेशा मच्छरदानी लगाकर सोएं।  अगर आप कूलर का उपयोग करते हैं तो नियमित रूप से पानी की ट्रे को साफ़ करें।

  • हमेशा कचरे के डिब्बे को ढककर रखे, मच्छरों को दूर रखने का एक प्राकृतिक उपाय है यह भी है की आप अपनी घर की खिड़किओं के आस-पास तुलसी के पौधेलगाएं, यह मच्छरों को पनपने से रोकते है।

  • हमेशा कचरे के डिब्बे को ढककर रखे, मच्छरों को दूर रखने का एक प्राकृतिक उपाय यह भी है की आप अपनी घर की खिड़किओं के आस-पास तुलसी के पौधे लगाएं, यह मच्छरों को पनपने से रोकता है।

डेंगू वायरस से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल –

डेंगू क्यों होता है?

(Dengue) डेंगू वायरस एक मच्छर जनित वायरल संक्रमण या बीमारी है, जो डेंगू मादा एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से फैलती है।

डेंगू बुखार कितने दिन में ठीक होता है

आम डेंगू का बुखार स्वचालित रूप से ठीक हो जाता है और जीवन के लिए मृत्यु का खतरा भी नहीं रहता है। लेकिन यदि कोई भी डीएचएफ या डीएसएस है और इसका तत्काल उपचार शुरू नहीं किया गया तो जान जाने की संभावना बढ़ जाती है। तो यह पहचानना सबसे महत्वपूर्ण है कि डेंगू सामान्य डीएचएफ या डीएसएस तो नहीं है। देखें, वैसे तो साधारण डेंगू का बुखार करीब 5 से 7 दिन तक रहता है और मरीज ठीक हो जाता है। लेकिन डेंगू डीएचएफ या डीएसएस है तो मरीज के लिए ठीक होना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

डेंगू को नियंत्रित कैसे करें –

डेंगू के लिए कोई विशिष्ट दवा या सटीक उपचार उपलब्ध नहीं है। बुखार और दर्द को नियंत्रित करने के लिए डॉक्टर पेरासिटामोल जैसे दर्द निवारक दवाएं लिख सकते हैं।

शरीर को हाइड्रेट रखना डेंगू को नियंत्रण में रखने के सबसे महत्वपूर्ण तरीकों में से एक है। ऐसे में साफ पानी पर्याप्त मात्रा में पीना चाहिए। इसके साथ ही नारियल पानी का भी सेवन करें। गंभीर लक्षणों वाले रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। गंभीर मामलों में, रोगी को अंतःशिरा तरल पदार्थ या electrolyte की खुराक दी जाती है।

कुछ मामलों में, रक्तचाप की निगरानी और रक्त आधान के माध्यम से भी इसका इलाज किया जाता है। एस्पिरिन या इबुप्रोफेन जैसी दवाओं का स्व-प्रशासन करना न भूलें, क्योंकि वे रक्तस्राव (bleeding) के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

डेंगू कैसे ठीक होता है?

डेंगू के बुखार में प्लेटलेट्स (Platelets) की संख्या काफी कम हो जाती है, जो की केवल तरल पदार्थ पीने से या जौ घास के सेवन से आती है। डेंगू को ठीक करने के लिए तरल पदार्थ और जौ घास का सेवन करना चाहिए।

इसके साथ ही आप पपीता, नारियल पानी और गिलोय का भी सेवन कर सकते हैं।

डेंगू बुखार में कौन सी दवा दी जाती है?

आम डेंगू वायरस को कम करने के लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं है, सिर्फ डेंगू के बुखार को कम करने के लिए पैरासिटामोल नामक दवाई है, जो केवल बुखार को कम करने में मदद करती है। रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने के लिए डॉक्टर अधिक से अधिक तरल पदार्थ पीने की सलाह देते हैं।

डेंगू का असर कितने दिन तक रहता है?

Dengoo bukhaar – डेंगू वायरस का असर लगभग 5-7 दिन तक रहता है।

डेंगू वायरस होने के बाद क्या करें?

यदि आपको डेंगू वायरस है तो आपको निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • पपीते के पत्ते का जूस
  • सब्जी का जूस
  • औषधिक चाय
  • चिकन सूप
  • नीम के पत्तों का जूस
  • हल्दी वाला दूध
  • नारियल पानी

इन सभी चीजों का सेवन करना चाहिए।

निष्कर्ष – Conclusion

आशा करता हूँ की अब आप dengue bukhar ka ilaj जान गए होंगे। अगर यह डेंगू वायरस किसी को हो जाये तो उसे हमारे बताएं गए इलाज पर ध्यान देना चाहिए।

अगर आपको dengue symptoms and treatment in hindi के लेख से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट के जरिये जरूर बताएं।

और पढ़ें :- बुखार की श्रेणी के बारे में

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *