ब्रेस्ट में दर्द के घरेलू उपाय – Home Remedies, Causes & Symptoms for Breast Pain in Hindi

ब्रेस्ट में दर्द के घरेलू उपाय - Home Remedies, Causes & Symptoms For Breast Pain In Hindi

(ब्रेस्ट में दर्द) Breast Pain Reason in Hindi –  अक्सर महिलाओं के ब्रेस्ट में दर्द होता है। ब्रेस्ट दर्द को मास्टाल्जिया भी कहा जाता है। महिलाओं में यह एक आम समस्या है, जिसमें स्तनों में हल्का दर्द, जकड़न, भारीपन, कोमलता या स्तन के ऊतकों में जलन जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। स्तनों में दर्द के साथ-साथ कभी-कभी कंधे और बगल में भी दर्द होता है। जरूरी नहीं कि ब्रेस्ट दर्द का मतलब ब्रेस्ट कैंसर हो।

कई बार मासिक धर्म के कारण भी स्तनों में दर्द होने लगता है। मासिक धर्म चक्र के कारण होने वाले स्तन दर्द को चक्रीय मास्टाल्जिया कहा जाता है। यह दर्द मासिक धर्म से कुछ दिन पहले शुरू होता है और मासिक धर्म के बाद ठीक हो जाता है। मेनोपॉज के कारण शरीर में प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ता और घटता है, जिससे ब्रेस्ट में दर्द होने लगता है। इस प्रकार रजोनिवृत्ति भी स्तनों में दर्द का कारण बन सकती है।

कैलिफ़ोर्निया पैसिफिक मेडिकल सेंटर (CPMC ) के अनुसार, 60 से 70 प्रतिशत महिलाएं स्तन दर्द से प्रभावित होती हैं। ब्रेस्ट पेन से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले स्तन दर्द के कारणों के बारे में जानना जरूरी है। कभी-कभी स्तन दर्द चक्रीय यानि मासिक धर्म के कारण होता है, जो मासिक धर्म के बाद अपने आप ठीक हो जाता है। कभी-कभी स्तन दर्द गैर-चक्रीय होता है। गैर चक्रीय स्तन दर्द के कई कारण हो सकते हैं। आइए जानते हैं ब्रेस्ट पेन के कारण और इलाज के बारे में।

ब्रेस्ट में दर्द के प्रकार क्या है? – Types of Breast Pain in Hindi

स्तनों में दर्द के प्रकार इस प्रकार हैं।

चक्रीय स्तन दर्द

मासिक धर्म के दौरान शरीर में कई तरह के हार्मोन्स में बदलाव आता है, जिससे स्तनों में दर्द होने लगता है। मासिक धर्म के कारण होने वाले स्तन दर्द को चक्रीय स्तन दर्द कहा जाता है। ब्रेस्ट पैन की लगभग 75% समस्याएं चक्रीय होती हैं। मासिक धर्म के बाद यह दर्द अपने आप ठीक हो जाता है।

गैर चक्रीय स्तन दर्द

गैर-चक्रीय स्तन दर्द के कई कारण हो सकते हैं। कभी-कभी यह स्तन में किसी प्रकार के आघात या चोट के कारण शुरू होता है। कभी-कभी यह दर्द दूध ग्रंथियों में बदलाव के कारण होता है। गैर-चक्रीय स्तन दर्द ज्यादातर 40 से 50 वर्ष की आयु की महिलाओं में होता है।

स्तन दर्द के लक्षण क्या है? – Symptoms of Breast Pain in Hindi

स्तन दर्द के लक्षण क्या है? - Symptoms of Breast Pain in Hindi

ब्रैस्ट पैन के लक्षण इस प्रकार है। –

चक्रीय स्तन दर्द के लक्षण – Cyclic Breast Pain Symptoms in Hindi

  • इस प्रकार का स्तन दर्द माहवारी की तरह कभी भी होने लगता है।

  • स्तनों में सूजन महसूस होना

  • रजोनिवृत्ति के साथ चक्रीय स्तन दर्द भी हो सकता है।

  • यह दर्द अक्सर मासिक धर्म से कुछ दिन पहले शुरू होता है।

  • कुछ महिलाओं को कम दर्द होता है और कुछ महिलाओं को चक्रीय स्तन दर्द में तेज दर्द होता है।

  • स्तनों से दर्द धीरे-धीरे बढ़ता है और दोनों तरफ (बगल) में भी होने लगता है।

  • इस प्रकार के स्तन दर्द में स्तनों में बेचैनी का अहसास होता है।

  • कभी-कभी स्तनों में गांठ का अनुभव होता है।

गैर चक्रीय स्तन दर्द के लक्षण – Non Cyclical Breast Pain Symptoms in Hindi

  • मासिक धर्म के साथ गैर-चक्रीय स्तन दर्द का कोई संबंध नहीं है।

  • गैर-चक्रीय स्तन दर्द आमतौर पर दो स्तनों में से एक में होता है।

  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं में यह दर्द तेज हो जाता है।

  • गैर-चक्रीय स्तन दर्द ज्यादातर 40 से 50 वर्ष की आयु की महिलाओं में होता है, यानी रजोनिवृत्ति के बाद।

  • संक्रमण के कारण होने वाले स्तन दर्द के कारण बुखार और स्तनों में लाली आ जाती है।

  • शुरुआत में यह दर्द एक चौथाई ब्रेस्ट को प्रभावित करता है, उसके बाद धीरे-धीरे यह दर्द पूरे सीने में फैल जाता है।

स्तन दर्द के अन्य लक्षण –

  • बहुत टाइट और छोटे कप वाली ब्रा

  • छाती में दर्द

  • सीने में चोट

  • पेप्टिक अल्सर होना

  • दाद होना

  • रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी

  • रिब फ्रैक्चर

  • स्तन सर्जरी

  • चिंता और तनाव

  • स्तन कैंसर

  • स्तन में गांठ

  • दिल की बीमारी

  • धूम्रपान और शराब पीना

और पढ़ें : ये बेहतरीन टिप्स ब्रेस्ट को टाइट करने के लिए है कामयाब – Breast Tight Karne Ke Tarike In Hindi

ब्रेस्ट में दर्द के कारण क्या है? – Breast Pain Reason in Hindi

ब्रेस्ट में दर्द के कारण क्या है? - Breast Pain Reason in Hindi

ब्रेस्ट सिस्ट के कारण स्तन दर्द

जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ती है, वैसे ही उनके स्तन बड़े होते जाते हैं और उनके स्तनों में कई तरह के बदलाव आते हैं। इन परिवर्तनों से स्तनों में रेशेदार ऊतक और सिस्ट का विकास होता है। इन्हें फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट टिश्यू कहा जाता है। आमतौर पर ये ऊतक किसी गंभीर चिंता का कारण नहीं होते, लेकिन कभी-कभी ये स्तनों में दर्द का कारण बनते हैं।

हार्मोन असंतुलन के कारण स्तन दर्द

महिलाओं के शरीर में प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन हार्मोन के बढ़ने और घटने से स्तनों में दर्द होने लगता है। इन दोनों हार्मोनों का संतुलन बिगड़ने पर स्तनों में दर्द, सूजन और गांठ जैसे लक्षण देखे जा सकते हैं। कई बार महिलाओं की उम्र बढ़ने के साथ-साथ हार्मोन का स्तर बढ़ने के साथ ही स्तनों में यह दर्द भी बढ़ जाता है। कभी-कभी जिन महिलाओं को चक्रीय स्तन दर्द होता है, उन्हें रजोनिवृत्ति के बाद स्तन दर्द का अनुभव नहीं होता है।

हार्मोन का संतुलन बिगड़ने के कारण मासिक धर्म से कुछ दिन पहले अक्सर स्तन में दर्द बहुत तेज हो जाता है। कभी-कभी मासिक धर्म के दिनों में भी यह चक्रीय मास्टाल्जिया जारी रहता है। स्तनों में दर्द चक्रीय मास्टाल्जिया है या नहीं, इसकी जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने मासिक धर्म की तारीख नोट करें और नोट करें कि कितने दिन पहले यह दर्द होता है।

स्तनपान कराने से हो सकता है ब्रेस्ट में दर्द

सूजे हुए स्तन और गांठ दूध ग्रंथियों में संक्रमण के लक्षण हैं। इस संक्रमण के कारण निपल्स में जलन, खुजली और दर्द होता है। बच्चे को दूध पिलाने वाली महिलाओं में दूध पिलाते समय यह दर्द तेज हो जाता है। ऐसा होने पर अक्सर डॉक्टर एंटीबायोटिक दवा लेने के लिए सलहा देते हैं। दूध पीते समय अगर बच्चा निप्पल को अच्छी तरह से नहीं लेता है तो तब भी स्तनों में दर्द होने लगता है।

और पढ़ें : ब्रेस्ट का आकर बढ़ाने और उनको सुडौल बनाने के स्वाभाविक सफल उपचार – How To Increase The Size Of Breast In Hindi

स्तनों में दर्द का निदान क्या है?

स्तन दर्द का निदान करने के लिए, डॉक्टर पहले आपके कुछ सवालों के जवाब देंगे। ये सवाल निम्नलिखित हो सकते हैं –

  • क्या आपने कैफीन का सेवन किया है? यदि हां, तो कितनी मात्रा में?

  • क्या आपके दोनों स्तनों में दर्द है?

  • kya  आपने गर्भनिरोधक गोली ली है?

  • क्या आप किसी तरह की दवा ले रहे हैं?

  • kya आप अपने स्तनों में गांठ का अनुभव कर रहे हैं?

  • क्या आपके स्तनों से कोई तरल पदार्थ निकल रहा है?

  • ब्रेस्ट के किस हिस्से में दर्द होता है?

  • आप सिगरेट पीते हैं या नहीं?

स्तन दर्द स्तन कैंसर नहीं है। लेकिन अगर आपके ब्रेस्ट का एक हिस्सा लंबे समय से दर्द कर रहा है, तो डॉक्टर आपको नीचे दिए गए टेस्ट करवाने के लिए कह सकते हैं।

  • मैमोग्राम

  • बायोप्सी

  • मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई)

  • अल्ट्रासाउंड

ब्रेस्ट में दर्द का इलाज क्या है? – Breast Pain Treatment in Hindi

ब्रेस्ट में दर्द का इलाज क्या है? - Breast Pain Treatment in Hindi
  • आइस पैक के इस्तेमाल से स्तन दर्द से राहत पाई जा सकती है। बर्फ के टुकड़े को एक सूती कपड़े में लपेट लें। अब इस कपड़े को अपने स्तनों पर दिन में तीन से चार बार तब तक लगाएं जब तक दर्द कम न हो जाए। ठंडा तापमान दर्द और सूजन से राहत देता है।

  • एक गिलास गुनगुने पानी में दो चम्मच सेब का सिरका और एक चम्मच शुद्ध शहद मिलाकर दिन में दो बार पिएं। इससे हार्मोन्स बैलेंस होंगे और ब्रेस्ट दर्द और सूजन से छुटकारा मिलेगा।

  • अगर आप स्तन दर्द से छुटकारा पाना चाहती हैं तो अपने स्तनों की मालिश करें। मालिश के लिए दो चम्मच गुनगुने जैतून के तेल में कपूर के तेल की कुछ बूंदे मिलाकर दिन में दो से तीन बार हल्के हाथों से स्तनों की मालिश करें।

  • विटामिन ई हार्मोन में बदलाव को संतुलित करता है, जिससे स्तनों में दर्द कम होता है। स्तन दर्द में विटामिन ई युक्त अधिक से अधिक फल और सब्जियां खाएं। एक बार अपने डॉक्टर से सलाह लें कि आपके लिए विटामिन ई की खुराक कितनी सही है।

  • अगर आपके स्तनों में दर्द है तो एक चम्मच अरंडी के तेल में दो चम्मच जैतून का तेल मिलाकर हल्के हाथों से दो से तीन मिनट तक मालिश करें। इन दोनों तेलों को मिलाकर मालिश करने से स्तनों को पोषण मिलता है और सूजन और दर्द से राहत मिलती है।

घरेलू उपाय-

  • अगर आपके पीरियड्स से पहले आपके ब्रेस्ट में दर्द होने लगे तो ये घरेलू उपाय अपनाएं। एक कप पानी में एक चम्मच सौंफ को तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा कप न हो जाए। अब इसे छलनी से छान लें और चाय की तरह दिन में तीन से चार बार पिएं। सौंफ महिला हार्मोन को संतुलित करती है और स्तन दर्द से राहत दिलाती है। सौंफ को आप दिन में कई बार थोड़ी-थोड़ी मात्रा में चबाकर भी खा सकते हैं।

  • अगर आपके स्तनों में सूजन के कारण दर्द हो रहा है तो पत्ता गोभी का इस्तेमाल करें। पत्ता गोभी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। पत्ता गोभी को पीसकर पेस्ट बना लें और फिर इस पेस्ट को कुछ देर अपने स्तनों पर लगाएं। यह सूजन को कम करता है और दर्द से राहत देता है।

  •  मासिक धर्म के कारण आपके स्तनों में दर्द हो रहा है तो इस दर्द से निजात पाने के लिए आपको मैग्नीशियम से भरपूर आहार का सेवन करना होगा। पत्तेदार सब्जियों में सबसे अधिक मैग्नीशियम होता है, इसलिए इनका अधिक सेवन करें।

  • अगर आपके स्तनों में हमेशा दर्द रहता है तो आपको सोयाबीन का सेवन करना चाहिए। सोयाबीन में हार्मोन को नियंत्रित करने के गुण होते हैं और यह स्तन दर्द को कम करने में भी सहायक है।

ब्रेस्ट के दर्द से बचने के उपाय क्या है?

  • योग और व्यायाम करते समय स्पोर्ट्स ब्रा पहनना

  • अच्छी फिटिंग वाली ब्रा का इस्तेमाल करें

  • इंफेक्शन से बचने के लिए रोजाना धोएं ब्रा

  • ताजे फल और हरी सब्जियां खाएं

  • अंडरवायर और पुश-अप ब्रा न पहनें

और पढ़ें : कमजोरी दूर करने के लिए हर महिला को रोजाना खानी चाहिए ये 6 चीजें – Mahilaon Ki Kamjori Door Karne Ke Upay

निष्कर्ष

स्तन दर्द स्तन कैंसर नहीं है। लेकिन अगर आपके ब्रेस्ट का कोई हिस्सा लंबे समय से दर्द कर रहा है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

इस पोस्ट में हमने आपको ब्रेस्ट दर्द से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय और इसके लक्षणों के बारे में बताया है। आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी कमेंट के माध्यम से हमें बताएं। कमेंट करने के लिए पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स में जाएं और वहां अपने सवाल लिखकर बताएं।

3 thoughts on “ब्रेस्ट में दर्द के घरेलू उपाय – Home Remedies, Causes & Symptoms for Breast Pain in Hindi”

  1. Pingback: स्तनों को टाइट करने के लिए बेहतरीन टिप्स - Breast Tight Kaise Kare in Hindi

  2. Pingback: how to increase breast size in 7 days at home in hindi - NeerFit

  3. Pingback: 15 सबसे असरदार पतंजलि ब्रेस्ट बढ़ाने की क्रीम, दवा और ऑयल - NeerFit

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *