शुगर तुरंत कम करने के उपाय – Sugar Kam Karne Ke Upay In Hindi (Sugur ka Ilaj)

Sugar ka ilaj

Sugar ka ilaj : आज के समय में शुगर लेवल कम करने के उपाय सभी जानना चाहते है। क्योंकि आज भारत के हर घर में से कोई न कोई शुगर का मरीज है। तेजी से बढ़ रही इस महामारी से बचने के लिए आपको कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाहिए, जिससे आप इस बीमारी से बच सकें।

ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए आज हम आपको शुगर कम करने के घरेलू उपाय बताएंगे, जिन्हें अपनाकर आप इसकी चपेट में आने से बच सकतें है।

शुगर की वजह से व्यक्ति को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है, उसकी आंखों की रोशनी घट जाती है, मोटापा बढ़ जाता है और कई अन्य बीमारियां भी हो जाती हैं। उदाहरण के लिए, दृष्टि की हानि, मतली, उल्टी, बालों का झड़ना, त्वचा का सूखापन, खुजली आदि।

इन सभी समस्याओं से बचने के लिए sugar ka permanent ilaj करना बेहद जरूरी है।

इस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए अधिकतर लोग कई प्रकार की दवाओं का सेवन करते है, उनमे से एक एलोपैथिक दवा है। इसके इस्तेमाल से लीवर और किडनी पर बहुत अधिक बुरा प्रभाव पड़ता है।

इन सभी समस्याओं को देखते हुए आज हम इस लेख में आपको बताएँगे की कैसे आप आसानी से शुगर का घरेलू इलाज कर सकते है।

तो चलिए सबसे पहले जानते है शुगर होने के क्या कारण है?

डायबिटीज होने के क्या कारण है?

शुगर की बीमारी आम तौर पर सभी को पता होती है। लेकिन बहुत ही कम लोग जानते हैं कि ऐसा किन कारणों से होता है। ज्यादातर लोगों में यह गलत धारणा है कि मीठा खाने से शुगर की बीमारी होती है। हालांकि यह एक कारण हो सकता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि हर व्यक्ति को शुगर की बीमारी हो जाएँ।

शुगर का कारण क्या है? यहाँ पर सभी बिंदु नीचे दिए गए हैं, इसलिए सबसे पहले आपको उनके बारे में पता होना चाहिए।

तो चलिए जानते है शुगर के कारण – sugar ke karan in hindi

मोटापे के कारण (Due to obesity)

आपके शरीर में मोटापा मधुमेह की बीमारी को भी आमंत्रित करता है और यही मधुमेह रोग का सबसे आम कारण है।

मोटे लोगों को शुगर की बीमारी बहुत जल्दी हो जाती है। मोटापे के कारण हमारे मानव शरीर में कोलेस्ट्रॉल और कैलोरी का स्तर अनिश्चित मात्रा में अपने सामान्य स्तर से बढ़ जाता है।

जो हमारे शरीर में मौजूद इंसुलिन को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। रक्त में ग्लूकोज की मात्रा अपने सामान्य स्तर से कम हो जाती है।

अगर आपका वजन ज्यादा है और आप मोटापे से परेशान हैं तो आपको हमारी यह पोस्ट पढ़नी चाहिए।

इंसुलिन हार्मोन (insulin hormone)

मधुमेह के कारणों में से एक इंसुलिन हार्मोन का असंतुलन भी है।

इंसुलिन ही हमारे रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को संतुलित करता है। हमारे शरीर में  ग्लूकोज कण होते हैं, उनसे ही हमारे शरीर को और ब्लड में जो Cells होते हैं उनको एनर्जी (ऊर्जा) मिलती है।

जब इंसुलिन हार्मोन का बनना या फिर अपने एक निश्चित लेवल से कम हो जाना या ज़्यादा हो जाना अथवा इंसुलिन हार्मोन की कार्य प्रणाली में कमी आ जाती है, तो यह शुगर की बीमारी होने का कारण बन जाता है।

पेंक्रियाज ग्रंथी (pancreas gland)

मधुमेह रोग में, पेंक्रियाज ग्रंथी के ठीक से काम ना करने के कारण भी आपको इस रोग के होने का खतरा बढ़ जाता है।

दोस्तों हमारे मानव शरीर में पेंक्रियाज ग्रंथि एक ऐसी चीज है जिससे हमारे शरीर के लिए आवश्यक  हार्मोन इस ग्रंथि से निकलते हैं।

इस पेंक्रियाज ग्रंथि से इंसुलिन और ग्लूकोज भी निकलता है। या तो पेंक्रियाज ग्रंथि अपना काम ठीक से नहीं करती है या यह ग्रंथि बिल्कुल भी बेकार हो जाती है। इस वजह से मानव शरीर में मधुमेह भी हो जाता है।

अनुवांशिक कारण (genetic cause)

हमारे मानव शरीर में कई ऐसी बीमारियां होती हैं जिन्हें हम जेनेटिक प्रॉब्लम कहते हैं।

इसका हिंदी में सरल अर्थ यह है कि वह रोग जो हमारे परिवार के किसी भी सदस्य को पहले से हो और बाद में वह आपको भी हो जाएँ, तो उसको ही जेनेटिक प्रॉब्लम बोलते है।

 यह sugar ki bimari जेनेटिक प्रॉब्लम भी हो सकती है। उदाहरण के लिए, यदि आपके पिता या दादा या माता को शुगर की समस्या है, तो हो सकता है कि बाद में; आपको भी इस समस्या का सामना करना पड़े।

शुगर होने के क्या लक्षण है?

Symptoms of sugar disease in Hindi

यहां हम आपको कुछ ऐसे लक्षण बता रहे हैं, जिनसे आपको पता चल जाएगा कि आपको शुगर की बीमारी है या नहीं, मधुमेह वाले व्यक्ति के लक्षण इस प्रकार हैं।

 तो चलिए जानते है शुगर के लक्षण – sugar ke lakshan in hindi

ब्लड में शुगर का कम या ज्यादा होना

दोस्तों आप सभी को यह बात आम तौर पर पता है कि जिन लोगों को डायबिटीज हो जाती है उनका शुगर लेवल सामान्य से कम या ज्यादा हो जाता है।

क्योंकि मधुमेह का रोग होने पर इंसुलिन नामक हार्मोन में गड़बड़ी होने के कारण; हमारे शरीर के रक्त में ग्लूकोस की मात्रा सामान्य से कम या ज्यादा हो जाती है जिससे मधुमेह होने का कारण बनता है।

वजन कम होना है डायबिटीज के लक्षण

जब मानव शरीर में कोशिकाओं को उनकी आवश्यक मात्रा में ग्लूकोज ठीक से नहीं मिलता है, तो वे पूरे शरीर में मौजूद वसा और मांसपेशियों से अपने भोजन की आपूर्ति शुरू कर देते हैं।

जिससे चर्बी और मांसपेशियों में कमजोरी आने लगती है और हमारा वजन तेजी से कम होने लगता है। जो diabetes ke lakshan है।

बार-बार पेशाब आना है मधुमेह के लक्षण

जब खून में शुगर की मात्रा ज्यादा हो जाती है तो किडनी खून को साफ करने के लिए ज्यादा मेहनत करने लगती है। और फिर आपका शरीर पेशाब के जरिए ज्यादा शुगर निकालने लगता है।

और इससे आपको बार-बार पेशाब आना और ज्यादा प्यास लगना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं।

शुगर के अन्य लक्षण

  • अत्यधिक भूख और प्यास भी इस रोग का संकेत हो सकता है।

  • अक्सर आपके मसूढ़ों में सूजन आ जाती है, ऐसा शुगर की बीमारी में ही होता है।

  • कुछ मधुमेह रोगियों में भी ऐसे लक्षण देखने को मिलते हैं कि उनकी त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ जाते हैं।

  • त्वचा में खुजली होने लगती है।

  • पुरुषों में शीघ्रपतन और नपुंसकता जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है।

  • और महिलाओं में मासिक धर्म और गर्भावस्था से जुड़ी समस्याएं होना भी इस बीमारी के लक्षण हैं।

और पढ़ें :- डायबिटीज को कम करने के लिए घरेलु उपाय – Home Remedies To Reduce Diabetes In Hindi

शुगर का घरेलू इलाज – sugar kam karne ke upay in hindi

sugar ka gharelu ilaj in hindi

वैसे, बाजार में शुगर कम करने के लिए कई प्रकार के उपकरण और उपचार उपलब्ध हैं। लेकिन हम आपको यहां आसान घरेलू उपचारो के माध्यम से बताएंगे कि कैसे आप घर पर ही sugar kam karne ka tarika जान जाएँ।

तो चलिए जानते है डायबिटीज का इलाज – sugar ka gharelu ilaaj in hindi

शुगर कम करने के घरेलु उपाय है तुलसी के द्वारा

तुलसी के पत्तों में एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व होते हैं, और इनमें ऐसे विशेष गुण होते हैं जो मानव शरीर में कोशिकाओं को सही तरीके से कार्य करने में मदद करते हैं। जैसे –  इंसुलिन का निर्माण, संग्रहण और स्राव आदि।

अगर आप रोजाना खाली पेट 2 या 3 तुलसी के पत्ते खाते हैं, तो इससे आपका ब्लड शुगर लेवल कम हो जाता है।

अलसी के बीजों से डायबिटीज का इलाज

डायबिटीज का इलाज अलसी के बीजों से आसानी से किया जा सकता है। अलसी में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जिसके कारण अलसी शुगर के तत्वों का अच्छी तरह से अवशोषण करने में सहायक होती है।

इस रोग में अलसी के बीज शुगर लेवल को  30% तक कम कर देते है। इसके लिए आप प्रतिदिन सुबह खाली पेट अलसी का चूर्ण गरम पानी के साथ लें।

नीम की पत्तियों से करें शुगर कम करने के घरेलु उपाय

भारत में बहुतायत में पाया जाने वाला एक साधारण लेकिन औषधीय गुणों से भरपूर नीम का पेड़ है। इसकी पत्तियां औषधीय गुणों भरपूर है और यह शुगर के रोग में बहुत फायदेमंद होता है।

इसके लिए शुगर के रोगी को नीम के कोमल पतियों को सुबह खाली पेट चबाकर शुगर में रहत मिलती है।  मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए यह सबसे अच्छा sugar ka ramban ilaj है।

आम के पत्तो से कर शुगर का परमानेंट इलाज

यदि मधुमेह प्रारम्भिक अवस्था में है तो आम के नए पत्तों का रस यानि कोमल पत्तों का रस निकाल कर सुबह-सुबह इनका काढ़ा बनाकर पी लें, इससे मधुमेह स्थिर हो जाएंगे, पानी में आम और जामुन मिलाकर पीने से शुगर लेवल नियंत्रित रहेगा।

आम की गुठली और जामुन की गुठली दोनों को पीसकर, इसका चूर्ण बनाकर, पानी में घोलकर या एक चम्मच चूर्ण लेकर मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है। अमरूद को बारीक काट लें और कटे हुए टुकड़ों को पानी में मिला दें, कुछ देर रखने के बाद उस पानी को छानकर पी लें।

आंवला के उपयोग से डायबिटीज का घरेलू इलाज

आंवला मधुमेह को दूर करने में सहायक होता है। इसमें विटामिन सी पाया जाता है जो शुगर कण्ट्रोल करने में मदद करता है।

यदि डायबिटीज से ग्रसित मरीज आंवला और करेला दोनों का जूस बनाकर प्रतिदिन पिए, तो वह डायबिटीज की समस्या से कुछ ही दिनों में छुटकारा पा सकतें है।

मधुमेह के रोगी आंवला, जामुन और करेले का चूर्ण बनाकर प्रतिदिन एक एक चम्मच ले तो काफी लाभ मिलेगा। 

भिंडी की सब्जी से करे शुगर कम करने के घरेलु उपाय

भिंडी के अंदर कई तरह के विटामिन और मिनरल होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल और शुगर दोनों के स्तर को नियंत्रित करते हैं। मधुमेह के रोग में रक्त शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है और ग्लूकोज की मात्रा भी गिर जाती है। यदि रक्त में ग्लूकोज का स्तर शरीर में बना रहता है तो यह शरीर के अंगों को हानि पहुँचाने लगता है।

एक अध्ययन में पाया गया है कि सब्जियों के भीतर एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो कई बीमारियों को दूर करने में मददगार होते हैं, उन्हीं में से एक है भिंडी की सब्जी।

और पढ़ें :- वायरल बुखार के लक्षण, घरेलू उपचार और बचाव के उपाय – Symptoms, Causes And Home Remedies For Viral Fever In Hindi

शुगर होने पर रखें इन बातों का ध्यान

शुगर होने के बाद किसी भी प्रकार के मीठे फल का सेवन न करें, आप केवल जामुन, आम जैसे फल खा सकते हैं, शुगर खाने से मधुमेह नहीं होता है या चीनी खाने से मधुमेह नहीं होता है, लेकिन मधुमेह होने के बाद शुगर खाने से मधुमेह की मात्रा बढ़ जाती है। डायबिटीज को खत्म करने के लिए आप प्रकृति में मौजूद आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं।

और पढ़ें :- गुर्दे की पथरी के लक्षण, कारण और घरेलू इलाज – Home Remedies For Kidney Stone In Hindi

sugar se bachne ke upay से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

शुगर बढ़ जाए तो क्या करें?

शुगर कम करने के लिए आपको आयुर्वेदिक चीजों से इलाज करना चाहिए।

  • तुलसी से करें शुगर का इलाज
  • अलसी के बीजों से डायबिटीज का इलाज
  • मेथी के दाने होते हैं फायदेमंद
  • नीम की पत्तियों से
  • एलोवेरा से मिलेगा आराम
  • आम के पत्तो से कर शुगर का परमानेंट इलाज
  • ग्रीन टी से

शुगर कितना होना चाहिए नार्मल?

अगर नार्मल शुगर लेवल की बात करें तो यह खाली पेट 70-110 के बीच होता है। और खाना खाने के बाद यह 110-140 तक चला जाता है।

हाई शुगर लेवल कितना होता है?

अगर हाई शुगर लेवल की बात करें तो यह 160-240 के बीच होता है। यह स्थिति बहुत ही खतरनाक है। ऐसे में आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

शुगर की सबसे अच्छी दवा क्या है?

डायबिटीज के लिए सबसे अच्छी दवाएं मेटामॉर्फिन, सल्फोनीलुरिया और मेग्लिटिनाइड्स हैं। मेटामॉर्फिन टाइप 2 मधुमेह के रोगियों को डॉक्टर द्वारा निर्धारित पहली दवा है।

शुगर कम करने के लिए क्या खाएं?

शुगर कम करने के लिए आपको हरी सब्जियों का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए। क्योंकि हरी सब्जियों में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है। इन सब्जियों में कम कैलोरी और ज्यादा पोषक तत्व होते है।

हरी सब्जियां में जैसे तोरई, करेला, ब्रोकली, लौकी, मेथी और पालक जैसी सब्जियों का सेवन कर सकतें है। इन सब्जियों में कम कैलोरी और ज्यादा पोषक तत्व होते हैं।

शुगर को जड़ से खत्म करने का तरीका क्या है?

शुगर को जड़ से खत्म करने के लिए आपको हेल्थी लाइफस्टाइल जीने के आवश्यकता है। और अधिक जानने के लिए ऊपर दिए गए निर्देशों का पालन करें।

निष्कर्ष – Conclusion

डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए कई तरह के योगासन हैं और कई तरह के व्यायाम हैं, जिनके जरिए आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं, एक्यूप्रेशर से भी आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं, अपने बाएं हाथ की हथेली से आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं. छोटी उंगली के नीचे की रेखा के नीचे हल्के हाथों से दवा लेने से आपको काफी आराम मिलेगा।

आशा करता हूँ की अब आप sugar ka ramban ilaj in hindi जान गए होंगे। अगर यह diabetes bimari किसी को हो जाये तो उसे हमारे बताएं गए इलाज पर ध्यान देना चाहिए

अगर आपको sugar control karne ka upay के लेख से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट के जरिये जरूर बताएं।

और पढ़ें :- डायबिटीज के श्रेणी के बारे में

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *