पद्मासन करने की विधि, लाभ और सावधानियां (How to do Lotus Pose In Hindi)

Padmasana in Hindi

Padmasana in hindi :- पद्मासन, एक ऐसा आसन है जो सकारात्मक रूप से शारीरिक और मानसिक ऊर्जा को बनाये रखने का काम करता है। यह उन सभी उपयुक्त असानो में से एक है, जो मन की शांति और धैर्य में वृद्धि करता है।

प्राचीन भारतीय काल में जितने भी प्रचारक और धर्म के संस्थापक हुए है, चाहे फिर वो गौतम बुद्ध, महावीर स्वामी, कालिदास, तुलसीदास आदि  क्यों न हो, सभी ने मन की शांति और धैर्य को बनाये रखने के लिए पद्मासन को अपनाया है।

आजकल के इन मुश्किल परिस्थितियों में शारीरिक और मानसिक स्थिति को बनाए रखना बहुत मूल्यवान हो जाता है। योग में कई ऐसे आसन और मुद्राएं है जो इन सभी स्थितियों से निपटने के लिए मददगार होते है और ऐसा ही एक आसन है पद्मासन।

यह आसन उन सभी शक्तियों और कुंडलिनी को जागृत करता है जो शरीर और मन के लिए अच्छा हैं। यह शारीरिक और मानसिक ऊर्जा को बनाए रखता है और मन की शांति और धैर्य को बढ़ाता है।

हमारे इस Padmasana in hindi लेख में उन सभी तमाम जानकारियां का विवरण दिया जायेगा, जो पद्मासन से संबंधित है। चाहे फिर वो विधि, लाभ और सावधानियां क्यों न हो। तो कृपा लेख को पूरा पढ़ें।

पद्मासन योग क्या है ? (Padmasana in Hindi)

पद्मासन संस्कृत भाषा का शब्द है जो दो शब्दों से मिलकर बना है। पद्म + आसान। पद्म का अर्थ होता है कमल और आसन का अर्थ होता है बैठना। इसी प्रकार पद्मासन का अर्थ होता है कमल की मुद्रा में बैठ कर किया जाने वाला अभ्यास।

इस आसन को अंग्रेजी भाषा में Lotus Pose भी कहते है। बहुत हद तक इस आसन में शरीर कमल की भांति प्रतीत होता है , इसलिए इसे कमल की मुद्रा का अभ्यास भी कहते है।

प्रसिद्ध योग गुरु “महर्षी महेश योगी ” का भी यही कहना है की जिस तरह कीचड़ में खिलने वाला फूल अपनी खूबसूरती कायम रखता है उसी प्रकार पद्मासन मनुष्य को सामाजिक बुराइयों से दूर रखने आध्यात्मिक स्तर की ओर अग्रसर होने में मदद करता है।

यह आसन आपको मन की शांति के आलावा शारीरिक, मानसिक एवं आध्यात्मिक रूप से सम्पन भी बनाता है। कहने का तात्पर्य है की यह आसन शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से शांति प्रदान करता है।

पद्मासन करने की विधि (Padmasana steps in hindi)

पद्मासन करने की विधि (Padmasana steps in hindi)

यह आसन बहुत आसान और सरल है। बशर्ते यह सही तरीके से और सही मुद्रा के साथ किया जाना चाहिए। किसी भी आसन के फायदे तभी ही उठाये जा सकते है जब उसे सही तरीके के साथ किया जाएँ।

तो जानिए पद्मासन करने की विधि (Padmasana karne ki vidhi)

  • आसन को करने के लिए योग मैट या चटाई का उपयोग करें।  किसी खुले वातावरण या शांत जगह का चयन करें।
  • फिर सामने देखते हुए रीढ़ की हड्डी को सीधा करें और टांगों को फैलाकर रखें।
  • अब धीरे से Right घुटने को मोड़कर Left जांघ पर रखें।
  • और इसी प्रकार Left घुटने को मोड़कर Right जांघ पर रखें। जैसा की ऊपर इमेज में दर्शाया गया है।
  • जब दोनों पैरों को मोड़ ले तो आप हाथो से  Gyan Mudra या Vayu Mudra बनाकर घुटनों पर रखें।
  • ध्यान रहे की गर्दन और कमर को सीधा रखें।
  • लंबी और गहरी सांसें धीरे-धीरे लेते रहें और प्रक्रिया को सामान्य रूप से जारी रखें।
  • इस प्रक्रिया को दिन में 2 बार करें और लगभग 5 से 10 मिनट अभ्यास को करते रहे।

पद्मासन के लिए वीडियो (Lotus Post in Hindi Video)

इस आसन को सरलता से करने के लिए वीडियो की सहायता लें।

और पढ़ें :- अनुलोम विलोम प्राणायाम करने की विधि, फायदे और सावधानियां

पद्मासन करने के फायदे (Benefits of Padmasana in Hindi)

Padmasana करने से न केवल शरीर को शारीरिक और मानसिक लाभ मिलते हैं बल्कि आध्यात्मिक लाभ भी होते हैं। यह शरीर से अशांति और घबराहट को दूर करता है।  बशर्ते यह सहज और सरल रूप से किया जाना चाहिए।

तो आइये जानते है पद्मासन करने के फायदे (Benefits of Lotus Pose in Hindi)

  • एकाग्रता में वृद्धि करता है पद्मासन
  • शांति प्रदान करता है
  • ऊर्जा के स्तर में बढ़ोतरी करता है
  • अच्छी नींद (Good sleep)
  • गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद है पद्मासन
  • शारीरिक समस्याओं से छुटकारा दिलाता है पद्मासन

1. एकाग्रता में वृद्धि करता है पद्मासन (Increases Concentration)

इस मुद्रा के अभ्यास से एकाग्रता (Concentration) में बढ़ोतरी होती है। इस मुद्रा से शरीर ध्यान की अवस्था में चला जाता है जो एकाग्रता बढ़ाने में मदद करता है।

यह मानसिक तनाव को कम करने के साथ धैर्य में वृद्धि करता है।

2. शांति प्रदान करता है (Provides peace)

यह आसन शरीर और मस्तिष्क को शांत रखता है। इस मुद्रा के अभ्यास से शरीर ध्यान की स्थिति में चला जाता है। जिससे मस्तिष्क और शरीर का संतुलन बना रहता है।

ऐसी स्थिति में मस्तिष्क के साथ शरीर भी शांत रहता है। तो शरीर और मस्तिष्क को शांत रखने के लिए पद्मासन का अभ्यास करना जरूरी है।

3. ऊर्जा के स्तर में बढ़ोतरी करता है (Increases energy levels)

ऊर्जा के स्तर को बनाये रखने तथा उसमे बढ़ोतरी करने में पद्मासन अहम भूमिका  निभाता है। आप किसी कारणवश थके हुए हो या शरीर में किसी कार्य को करने की ऊर्जा नहीं है तो आप 10 से 20 मिनट पद्मासन की स्थिति  में बैठ जाये, आपको गारंटी के साथ लाभ मिलेगा।

शोधो से पाया गया है कि यदि आप थके गए होने के बाद कुर्सी अथवा बिस्तर पर बैठने के स्थान पर पद्मासन की स्थिति में बैठते है तो आपकी ऊर्जा में बढ़ोतरी होती है।

4. अच्छी नींद (Good sleep for padmasana in hindi)

अच्छी नींद  और बेहतर Relaxation के लिए पद्मासन बहुत ही कारगर है। यह तनाव को कम करने तथा Brain Pressure को नियंत्रित करने में मदद करता है।

नींद न आने के कई कारण हो सकते है जैसे शारीरिक और मानसिक तनाव। कुछ हद तक दवाइंया भी नींद न आने कर कारण बन सकती है। लेकिन ऐसे में पद्मासन इन सभी समस्याओं से राहत दिलाने में मददगार है।

डॉक्टरों द्वारा भी इस बात की पुष्टि की जा चुकी है कि पद्मासन और योगिग मुद्राएं बेहतर नींद और तनाव को कम करने में सहायक है।

5. गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद है पद्मासन (Padmasana is beneficial for pregnant women)

गर्भवती महिलाओं के लिए पद्मासन बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है। शोध से पाया गया है कि गर्भवती महिलाओं के लिए इस मुद्रा का अभ्यास उनके डिलीवेरी में फायदेमद साबित हो सकती है।

अगर आप इस मुद्रा का अभ्यास करना चाहते है तो आप सबसे पहले किसी डॉक्टर की सलहा अवश्य लें।

6. शारीरिक समस्याओं से छुटकारा दिलाता है पद्मासन (Padmasana relieves physical problems)

शारीरिक समस्याएं जैसे कमर दर्द, पेट दर्द, अकड़न, चिड़चिड़ापन, तनाव आदि समस्यायों को दूर करता है।

ऐसी समस्याएं होना आम बात है। लेकिन इनका कुछ हद तक इलाज केवल पद्मासन करता है। हम अपने ऊपरी लेख में बता चुके है कि पद्मासन शांति प्रदान करने, तनाव को कम करने, ऊर्जा बनाये रखने और साथ ही शारीरिक समस्यायों को दूर करने में मददगार है।

अगर आप एक Helathy Lifestyle जीना चाहते है तो पद्मासन और अन्य योगिक मुद्राओं का अभ्यास जरूर करे।

Padmasana मुद्रा के अन्य फायदे :-

  • यह Blood Circulation में वृद्धि करता है और साथ ही Blood Pressure (BP) को नियंत्रित करता है।
  • यह घुटने और टखने के लिए फायदेमंद है।
  • पाचन संबंधी समस्यायों को दूर करता है।
  • शरीर को लचीला बनाने के साथ मांसपेशियों को मजबूत बनाता है।

पद्मासन करने में क्या सावधानी बरती जाए (Precautions for Lotus Pose in Hindi)

देखें, किसी भी मुद्रा या आसन का अभ्यास करते समय कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी है, वरना आपको इसके लाभ की बजाय हानि उठानी पड़ सकती है।

तो नीचे हमने पद्मासन मुद्रा से संबंधित कुछ सावधानियां का जिक्र किया है, ताकि आप पद्मासन का अभ्यास करते समय ये सावधानियां बरत सकें।

  • यह मुद्रा को करने से पहले किसी योग प्रशिक्षक की सलहा अवश्य लें।
  • यह आसान करते समय किसी भी प्रकार की कठिनाइयां एवं दर्द महसूस होने पर आसान को वहीं पर छोड़ दें।
  • घुटने और टखने में किसी प्रकार की चोट अथवा सर्जरी हुई है तो आसान को न करें।
  • यह आसन करते समय कमर दर्द हो तो आसान को न करें।

निष्कर्ष (Conclusion)

इस लेख की सहायता से आप पद्मासन से संबंधित जानकारियों को समझ पाएं होंगे। अगर आप प्रतिदिन पद्मासन या योगिक मुद्राओ का अभ्यास करते है तो आप इससे प्राप्त मानसिक और शारीरिक फायदे उठा सकते है , बशर्ते इसे सही ढंग से किया जाएँ।

आपको लेख पढ़कर अच्छा लगा हो तो हमे COMMENT के माध्यम से जरूर बताएं।

और पढ़ें :- योग और प्राणायाम की श्रेणी के बारे में

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *