गर्दन दर्द के घरेलु उपाय, कारण और लक्षण – Neck Pain Treatment in Hindi at Home

Neck Pain Treatment In Hindi At Home

Neck Pain Treatment in Hindi : गर्दन हमारे शरीर का एक हिस्सा है जो हमें विभिन्न गतिविधियों में मदद करता है। गर्दन की संरचना जटिल है। ऐसे में गर्दन के दर्द का सीधा संबंध हमारे शरीर से होता है। अगर गर्दन में तेज दर्द हो तो हमारे रोजाना के काम बंद हो जाते हैं। ऐसे में गर्दन की सेहत का ख्याल रखना बेहद जरूरी है।

गर्दन के दर्द के कई कारण हो सकते हैं, लेकिन मुख्य रूप से गर्दन में दर्द, खराब मुद्रा या गर्दन को अप्राकृतिक रूप से हिलाना-डुलाना है। ज्यादातर गर्दन का दर्द कंधों, गर्दन और उनके आसपास की मांसपेशियों से शुरू होकर रीड की हड्डी तक चला जाता है। गर्दन का दर्द कभी-कभी गर्दन में सूजन, झुनझुनी और सिरदर्द का कारण बन सकता है।

कई बार गर्दन में चोट लगने, नसों के सिकुड़ने और शरीर में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी गर्दन में दर्द होता है। ज्यादातर गर्दन का दर्द गंभीर नहीं होता, कुछ दिनों बाद अपने आप ठीक हो जाता है। इसके विपरीत कभी-कभी गर्दन का दर्द कैंसर, रीढ़ की हड्डी में संक्रमण और किसी अन्य गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है।

इसीलिए समय रहते इस समस्या का समाधान करना बेहद जरूरी है। आगे हमने इस लेख में गर्दन दर्द के कारण, गर्दन दर्द के लक्षण और गर्दन दर्द का इलाज भी बताया है, तो उन्हें पढ़ना न भूले।

गर्दन दर्द क्या है? – What is Neck Pain in Hindi

गर्दन का दर्द गर्दन की मांसपेशियों के कारण होता है। यह दर्द गर्दन के किसी भी हिस्से में हो सकता है। यह दर्द खराब मुद्रा, चोट और नसों के संकुचन के कारण होता है। कुछ लोग इस दर्द को सर्वाइकलगिया का दर्द (cervicalgia) कहते हैं।

इस समस्या में गर्दन को हिलाने, आगे-पीछे झुकाने में तेज दर्द होता है। इस दर्द के कारण कुछ लोगों को जकड़न महसूस होती है, वहीं कुछ लोगों को गर्दन में सूजन, झुनझुनी और सिरदर्द का अनुभव होता है।

आमतौर पर यह समस्या थोड़े आराम या व्यायाम से ठीक हो जाती है, लेकिन कभी-कभी यह लंबी अवधि के कारण गंभीर रूप ले लेती है। इसलिए समय पर इसका इलाज कराएं।

गर्दन दर्द के कारण क्या है? – Causes of Neck Pain in Hindi

Causes of Neck Pain in Hindi

गर्दन का दर्द आजकल एक आम बात हो गई है। यह दर्द कई कारणों से हो सकता है। उदाहरण के लिए, खराब मुद्रा या गर्दन की अप्राकृतिक गति, मांसपेशियों में खिंचाव या तनाव। नीचे कुछ ऐसे कारण दिए गए हैं जो गर्दन के दर्द में योगदान करते हैं।

चलिए जानते है गर्दन दर्द के कारण –

  • लंबे समय तक एक ही पोजीशन में काम करने या बैठने से गर्दन में दर्द होने लगता है।

  • गठिया, कैंसर और मेनिन्जाइटिस जैसी बीमारियों के कारण भी गर्दन में दर्द होता है।

  • कंप्यूटर पर काम करते समय या पढ़ते समय आगे झुकने से भी गर्दन में दर्द होने लगता है।

  • सिर पर ज्यादा वजन रखने से भी गर्दन में दर्द होने लगता है।

  • फोन पर बात करते समय या कोई अन्य काम करते समय गर्दन को ज्यादा देर तक झुकाए रखने से गर्दन में दर्द हो सकता है।

  • गर्दन में चोट लगने से भी गर्दन में दर्द हो सकता है।

  • गलत तरीके से सोने से अगले ही दिन गर्दन में दर्द होने लगता है।

  • सोते समय सिर के नीचे तकिया लगाने से गर्दन में दर्द होता है। इसके आलावा यह सर्वाइकल का कारण बन सकता है।

  • बाइक चलाते समय भारी वजन का हेलमेट पहनने से भी गर्दन में दर्द होता है।

और पढ़ें : Kamar Dard Ka Ilaj – जानिए कमर दर्द का रामबाण इलाज, कारण और बचाव के उपाय

गर्दन दर्द के लक्षण क्या है? – Neck Pain Symptoms in Hindi

गर्दन दर्द के लक्षण इस प्रकार है।

  • शरीर कांपना

  • सिरदर्द होना

  • गर्दन में गांठ बनना

  • गर्दन हिलाने पर दर्द

  • झुनझुनी महसूस होना

  • निगलने में परेशानी होना

  • सूजी हुई लिम्फ नोड

  • Neck Pain (गर्दन में दर्द)

गर्दन दर्द का घरेलू इलाज – Neck Pain Treatment in Hindi at Home

गर्दन दर्द का घरेलू इलाज

गर्दन के दर्द का इलाज कुछ घरेलू नुस्खों की मदद से किया जा सकता है। गर्दन के दर्द से छुटकारा पाने के लिए हमने नीचे कुछ घरेलू नुस्खे बताए हैं, जो गर्दन के दर्द से राहत दिलाने में मददगार हैं।

चलिए बिना समय बर्बाद किये जानते है garden dard ka gharleu ilaj

हल्दी से गर्दन दर्द का इलाज

हल्दी में पाए जाने वाले एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण गर्दन के दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं। हल्दी एक फाइटोकेमिकल तत्व है जो शरीर में होने वाले किसी भी दर्द को दूर करने का काम करता है। अगर आपको भी ऐसी समस्या है तो एक बार हल्दी का इस्तेमाल करें।

 गर्दन दर्द से छुटकारा पाने के लिए हर रोज एक गिलास दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर इसे 5 मिनट के लिए उबाले और इसे ठंडा करके, एक चम्मच शहद मिलाकर पी जाये।

सेंधा नमक से गर्दन दर्द का घरेलू इलाज

सेंधा नमक गर्दन के दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। यह सूजन को कम करने के साथ-साथ मांसपेशियों को आराम भी देता है। सेंधा नमक दर्द निवारक है, जो तनाव को दूर करने के साथ-साथ मांसपेशियों की अकड़न से भी छुटकारा दिलाता है।

इसके लिए एक बाल्टी गुनगुने पानी से भरें और उसमें आधा गिलास सेंधा नमक मिलाएं। इस बाल्टी में अपने हाथ, पैर और गर्दन को डुबोएं। ऐसा तब तक करें जब तक आपको गर्दन के दर्द से आराम न मिल जाए।

गर्दन दर्द के इलाज में उपयोगी है लैवेंडर का तेल

लैवेंडर के तेल से गर्दन की मालिश करने से गर्दन की कठोर मांसपेशियों को आराम मिलता है, जिससे तनाव से राहत मिलती है और अच्छी नींद आती है। आप लैवेंडर के तेल के अलावा जैतून और नारियल के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

गर्दन में दर्द होने पर हल्के हाथों से गर्दन की मालिश करें। कुछ लोगों को लैवेंडर के तेल से एलर्जी होती है, जिससे मालिश करने के बाद उनका दर्द बढ़ सकता है। अगर आपको भी ऐसी कोई समस्या है तो डॉक्टर से सलाह लें। और इसकी जगह आप जैतून या नारियल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आइस पैक से गर्दन दर्द का उपचार

अगर आप घरेलू नुस्खों के जरिए गर्दन के दर्द को दूर करना चाहते हैं तो आइस पैक का इस्तेमाल करें। गर्दन दर्द के इलाज के लिए यह सबसे सस्ता घरेलू उपाय है। आइस पैक का काम तापमान सूजन को कम करने में सहायक होता है, जिससे गर्दन के दर्द से राहत मिलती है।

बर्फ के कुछ टुकड़ें लें और उन्हें एक एक सूती कपड़े में लपेट कर गर्दन पर 15 से 20 मिनट तक सेके। ऐसा दिन में तीन से चार बार करने से गर्दन के दर्द में आराम मिलेगा।

और पढ़ें : स्लिप डिस्क की समस्या से निजात पाने के लिए अपनाएं ये घरेलु उपाय

गर्दन में दर्द की होम्योपैथिक दवा – Gardan Dard ki dawa

  • जेल्सीमियम से करें गर्दन दर्द का होम्योपैथिक इलाज

  • कॉस्टिकम भी गर्दन की समस्याओं में कारगर

  • हाइपेरिकम परफोरेटम नसों के दर्द को दूर करने में सहायक

  • लौंग के तेल में सरसों का तेल मिलाकर मालिश करने से पाएं गर्दन दर्द में आराम।

  • सोंठ के चूर्ण को सरसों के तेल में मिलाकर इस तेल से गर्दन की मालिश करने से गर्दन का दर्द दूर हो जाता है।

निष्कर्ष

इसके लक्षणों और कारणों को जानकर अगर समय रहते इसका इलाज किया जाए तो इससे होने वाली गंभीर समस्याओं से बचा जा सकता है। अगर आपको कई दिनों से गर्दन में दर्द हो रहा है, तो इसे नज़रअंदाज़ न करें, क्योंकि लंबे समय तक गर्दन का दर्द कई गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। इसलिए गर्दन में दर्द या कोई अन्य बीमारी होने पर सबसे पहले डॉक्टरी सलाह लें।

इस पोस्ट में हमने आपको  gardan dard ka upchar कैसे करें के बारे में विस्तार से बताया है। आपको गर्दन दर्द के बारे में यह जानकारी कैसी लगी और आपको इस जानकारी से कैसे और किस प्रकार लाभ हुआ, इसके बारे में हमें कमेंट करके बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *