kamar dard ka ilaj – जानिए कमर दर्द का रामबाण इलाज, कारण और बचाव के उपाय

kamar dard ka ilaj

kamar dard ka ilaj : कमर दर्द एक बहुत ही आम समस्या है और हममें से कई लोगों को अपने जीवन में कभी न कभी इससे प्रभावित होना पड़ता है। अच्छी खबर यह है कि ज्यादातर मामलों में यह एक गंभीर समस्या नहीं है, और यह सिर्फ एक मांसपेशी या लिगामेंट में एक साधारण तनाव के कारण हो सकती है।

आमतौर पर यह समस्या कुछ दिनों या हफ्तों में ठीक हो जाती है। लेकिन कुछ मामलों में यह थोड़े लम्बे समय तक भी रह सकती है।

kamar me dard हो या पीठ के निचले हिस्से में दर्द इस समस्या से लोग काफी परेशान रहते है। महिलाओं की बात करें तो मासिक धर्म और गर्भावस्था के दौरान, मोटापे से पीड़ित लोगों और वृद्धावस्था में पहुंच चुके लोगो को इस समस्या से ज्यादा परेशान होना पड़ता है।

लेकिन यह इतना भी सच नहीं है। क्योंकि एक शोध के अनुसार यह पाया गया है कि कमर दर्द लगभग किसी भी उम्र में हो सकता है। बशर्ते उसकी मांसपेशियों या लिगामेंट में तनाव हो।

इस समस्या से पीड़ित लोग कमर दर्द के लिए आयुर्वेदिक दवा का भी इस्तेमाल करते हैं, लेकिन फिर भी उन्हें ज्यादा फायदा नहीं होता है।

इसलिए वे लोग kamar dard ka ilaaj ढूँढने की कोशिश करते है, उनको इलाज मिल भी जाता है पर उनके लिए यह इतना फायदेमंद नहीं होता है। यदि आपके उपचार विफल हो जाते है, तो आप हमारे साधारण कमर दर्द का घरेलु इलाज और एक्सरसाइज-योग से कुछ ही हफ्तों में back pain से राहत पा सकतें है। और इसके लिए आपको पीठ दर्द के इलाज के लिए सर्जरी की शायद ही कभी आवश्यकता पड़े।

तो चलिए सबसे पहले जानते है कमर दर्द या पीठ के नीचले हिस्से में दर्द कैसे होता है?

कमर दर्द कैसे होता है?

कमर दर्द कई कारणों पर निर्भर करता है। आपके द्वारा की जाने वाली हरकतें, हिलना या गिरना, वजन उठाना, एक स्थिति में बैठे रहना, चोट या किसी चिकित्सीय स्थिति के कारण हो सकता है। यह दर्द आमतौर पर रीढ़ के निचले हिस्से, मांसपेशियों, ऊतकों और रीढ़ को सहारा देने वाले लिगामेंट्स पर बार-बार दबाव पड़ने से होता है, जिसके कारण कमर दर्द होता है।

यह दर्द 35 से 55 वर्ष की आयु के वयस्कों में अधिक देखा जाता  है। यदि आप गंभीर पीठ दर्द का अनुभव कर रहे हैं, तो अपने गतिविधियों को सीमित न करें, क्योंकि धीरे-धीरे काम करना आराम करने या सीधे लेटने से बेहतर है।

अगर आपको back pain से छुटकारा पाने वाले उपायों से कोई फायदा नहीं मिल रहा है तो आप हमारे द्वारा दिए गए घर पर किये जाने वाले कमर दर्द का रामबाण इलाज को अपना सकतें है। तो आइए अब जानते हैं कमर दर्द का कारण एवं घरेलू इलाज।

कमर दर्द होने के क्या कारण है?

कमर दर्द होने के क्या कारण है?

मानव पीठ मांसपेशियों,  लिगामेंट्स टेंडन, डिस्क और हड्डियों की एक जटिल संरचना से बना है। जो शरीर को सहारा देने के लिए मिलकर काम करते हैं और हमें घूमने-फिरने में सक्षम बनाते हैं।

इनमे से किसी भी घटक की समस्या से back pain हो सकता है।

अक्सर लोग पूछते है कि कमर में दर्द होने के कारण बताइए? देखें अक्सर back pain का एक साधारण कारण नहीं होता है, बल्कि निम्नकारण होते है। और वे कारण  इस प्रकार है। 

मांसपेशियों या लिगामेंट में खिंचाव

बार-बार भारी वजन उठाना या गलत तरीके से बैठना भी रीढ़ की मांसपेशियों और लिगामेंट्स पर खिंचाव पैदा कर सकता है, जिससे back pain हो सकता है। यदि आप खराब शारीरिक स्थिति में हैं, तो अपनी पीठ पर लगातार दबाव डालने से मांसपेशियों में दर्द हो सकता है।

तनाव या चोट लगने के कारण है Back Pain 

कमर दर्द आमतौर पर तनाव या चोट लगने के कारण होता है।

  • तनावपूर्ण मांसपेशियां या लिगामेंट्स

  • मांसपेशियों में क्रैम्प

  • मांसपेशियों में तनाव

  • डैमेज डिस्क

  • चोट, फ्रैक्चर, या गिरना

ऐसी गतिविधियां जो मासपेशियों में तनाव या क्रैम्प  पैदा कर सकती हैं उनमें शामिल हैं –

  • गलत तरीके से उठना या बैठना

  • गलत तरीके से भारी चीजे उठाना

  • एक जगह देर तक बैठे रहना और अचानक गतिविधियां करना 

स्लिप डिस्क की समस्या से निजात पाने के लिए अपनाएं ये घरेलु उपाय

kamar dard ka karan है शारीरिक संरचनात्मक समस्याएं 

कई शारीरिक संरचनात्मक समस्याएं हैं जो kamar dard का कारण बनती हैं।

टूटी हुई डिस्क

रीढ़ (Spine) की प्रत्येक कशेरुका (vertebra) डिस्क द्वारा गद्दीदार होती है। यदि डिस्क टूट जाती है, तो तंत्रिका पर अधिक दबाव पड़ने लगता है, जिसके परिणामस्वरूप back pain होता है।

उभरी हुई डिस्क

टूटी हुई डिस्क की तरह ही  उभरी हुई डिस्क भी तंत्रिका पर अधिक दबाव डालती है जिससे back pain होता है।

झुकी हुई रीढ़

रीढ़ की हड्डी का असामान्य रूप से झुकना भी back pain का एक कारण है।

साइटिका 

एक तेज और कष्टदायी दर्द जो कूल्हे और पैर के पिछले हिस्से से होकर गुजरता है। यह दर्द किसी नर्व पर उभड़ा हुआ या हर्नियेटेड डिस्क के दबाव के कारण होता है।

कमर दर्द होने का कारण है शारीरिक गतिविधि और शारीरिक मुद्राएं

पीठ दर्द कुछ दैनिक गतिविधियों या खराब मुद्रा के कारण भी हो सकता है। उदाहरण के लिए –

  • गर्दन को आगे की ओर झुकाना

  • मांसपेशियों में तनाव

  • लंबे समय तक खड़े रहना या बैठना

  • ऐसी स्थिति में सोना जो रीढ़ की हड्डी के लिए अनावश्यक है

  • गलत तरीके से उठना या बैठना

  • लम्बे समय तक कुर्सी पर बैठे रहना

  • भारी वजन उठाना

कमर दर्द के अन्य कारण –

रीढ़ की हड्डी का कैंसर

बैक-बोन का कैंसर भी कमर दर्द का मुख्य कारण है। यह ट्यूमर एक तंत्रिका के खिलाफ दबा सकता है, जिसके परिणामस्वरूप back pain हो सकता है।

रीढ़ की हड्डी से संबंधित संक्रमण

रीढ़ की हड्डी से संबंधित संक्रमण भी पीठ दर्द का कारण हो सकता है। बुखार और पीठ की कोमलता, गर्म क्षेत्र से रीढ़ की हड्डी के संक्रमण का कारण है। इसके साथ ही अन्य संक्रमण में पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज, ब्लैडर या किडनी इंफेक्शन भी back pain का कारण है।

नींद संबंधी विकार भी कमर दर्द का मुख्य कारण

नींद न आने की बीमारी वाले व्यक्तियों को दूसरों की तुलना में पीठ दर्द का अनुभव होने की संभावना अधिक होती है। क्योंकि एक शोध के मुताबिक नींद न आने वाले व्यक्तियों को कमर दर्द की शिकायत रहती है।

गर्भावस्था में कमर दर्द होने के कारण

भार आगे की तरफ होना

जैसे-जैसे बच्चा गर्भ में बढ़ता है, शरीर का वजन आगे की ओर बढ़ता चला जाता है। जिससे रीड की हड्डी के निचले हिस्से पर अधिक दबाव पड़ने लगता है। जो कमर दर्द होने का कारण बनता है।

 वजन बढ़ना

वजन बढ़ना गर्भावस्था का एक स्वस्थ हिस्सा हो सकता है, लेकिन उन 9 महीनों के दौरान आपको जो कुछ भी हासिल करने की संभावना होती है, उसका थोड़ा सा भी असर आपकी पीठ और कोर की मांसपेशियों पर अधिक तनाव डालने लगता है।

हार्मोनल बदलाव

जैसे ही आपका शरीर जन्म देने के लिए तैयार होता है, यह हार्मोन जारी करता है जो आपके श्रोणि और काठ की रीढ़ को स्थिर करने वाले लिगामेंट् को ढीला करता है। यही हार्मोन आपकी रीढ़ की हड्डियों को भी हिला सकते हैं, जिससे बेचैनी और दर्द हो सकता है।

गुर्दे की पथरी के लक्षण, कारण और घरेलू इलाज

कमर दर्द के लक्षण क्या है?

कमर दर्द के लक्षण क्या है?

अक्सर मरीजों द्वारा kamar dard ke lakshan स्वयं महसूस किये जाते है। स्वयं महसूस होने के बाद वें डॉक्टर से सलहा लेते है। जैसा की इसके नाम  से ही पता चलता है कि यह कमर दर्द, कमर की किसी भी हिस्से में हो सकता है।

कुछ पीठ की समस्याएं प्रभावित नसों के आधार पर शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द का कारण बन सकती हैं। इसीलिए kamar dard ka gharelu upay करना बहुत ही जरूरी है।

तो आइये अब जानते है Symptoms of back pain in hindi

  • वजन घटना

  • बुखार

  • शरीर का तापमान बढ़ना

  • लगातार पीठ में दर्द

  • पीठ में सूजन 

  • पैरों के नीचे दर्द

  • दर्द घुटनों के नीचे तक पहुंच जाएँ

  • हाल ही में पीठ की चोट, झटका या आघात

  • पेशाब पर कंट्रोल खोना

  • पेशाब करने में कठिनाई

  • जननांगों के आसपास सुन्नता

  • कूल्हे के आसपास सुन्नता

kamar dard ke lakshan जो दे सकतें है गंभीर समस्या

  • मूत्राशय पर नियंत्रण खोना

  • पैरों में कमजोरी

  • शरीर में सुन्नता, झुनझुनी

  • तेज, लगातार दर्द जो रात में बढ़ जाएँ

  • बुखार की स्थिति

kamar dard ke upay अक्सर इलाज के बिना भी ठीक हो जाते है, लेकिन अगर ऐसा निम्न में से किसी के साथ होता है तो उसको अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए। अपने नजदीकी चिकित्सक को बताएं कि क्या आपको इनमें से कोई भी लक्षण है।

डायबिटीज के लक्षण, कारण और कम करने के लिए घरेलु उपाय

इलाज : kamar dard ka ilaj in hindi

कमर दर्द की वजह से लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अगर इस समस्या का समय रहते इलाज नहीं किया गया तो यह अन्य गंभीर समस्याओं को जन्म दे सकता है।

अतः: समझदारी इसी में ही है कि कमर दर्द के लक्षण दिखने पर kamar dard ke gharelu upchar किया जाए।

तो चलिए अब जानते है kamar ke niche dard ka upay

कमर दर्द के इलाज के लिए एक्सरसाइज

पीठ दर्द का इलाज करने का सबसे आसान और सबसे प्रभावी तरीकों में से एक एक्सरसाइज करना है। एक्सरसाइज  न केवल पीठ दर्द के इलाज में मदद करेगा बल्कि एक फिट शरीर भी बनाएगा।

कमर दर्द के इलाज के लिए सबसे अच्छी एक्सरसाइज ब्रिज एक्सरसाइज है। ब्रिज एक्सरसाइज को कैसे करते है? हमने नीचे विस्तार से बताया है।

ब्रिज एक्सरसाइज कैसे करें?

  • सबसे पहले योगा मेट पर पीठ के बल लेट जाएं, दोनों हाथो को सीधे जमीन से लगागर रखें, हथेलियों को जमीन से सटा लें।

  • अब अपने घुटनों को मोड़े और lower body का भार अपने एड़ियों पर लाएं।

  • फिर इसके बाद अपने कूल्हों और छाती को ऊपर उठायें, ध्यान रखें  आपकी पेरो की एड़ियां और गर्दन जमीन पर हो। जैसा की ऊपर इमेज में दर्शाया गया है।

  • अपने शरीर को तब तक उठाये जब तक वह एक सीधी रेखा में न आ जाये।

  • 3 सेकंड के लिए इस मुद्रा में बने रहे।

  • वापिस अपनी प्रारंभिक मुद्रा में लौटें।

  • इस एक्सरसाइज को लगभग 12 से 14 बार करें। 

कमर दर्द  के इलाज के लिए योग

Back pain के इलाज के लिए सबसे आसान उपाय योग माना जाता है। योग ही है जो पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करने के साथ-साथ शरीर की मुद्रा में भी सुधार करता है।

कई आसन या मुद्राएं है जो पीठ दर्द के इलाज में मदद करतें है। लेकिन आज हम जिस आसन के बारे में बात करेंगे वह बाकियों में सबसे अच्छा है और पीठ दर्द में काफी असरदार है।

वह आसन है कैट-काऊ पोज़

अगर आप ऐसे आसन की तलाश में हैं जो कमर दर्द से जल्दी राहत दे सके, तो हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ें। क्योंकि इस लेख में कैट-काऊ पोज़ के बारे में विस्तार से बताया गया है जो बहुत ही प्रभावी है।

कैट-काऊ पोज़ कैसे करें?

  • अगर आप ऐसे आसन की तलाश में हैं जो कमर दर्द से जल्दी राहत दे सके, तो हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ें। क्योंकि इस लेख में कैट-काऊ पोज़ के बारे में विस्तार से बताया गया है जो बहुत ही प्रभावी है।

  • सबसे पहले योगा मैट को बिछा कर घुटनों को टेक कर बैठ जाएं।

  • शुरुआत में वज्रासन की मुद्रा में भी बैठ सकते हैं।

  • अब अपने दोनों हाथों को आगे की ओर मेट पर रखें। जैसा की ऊपर इमेज में दर्शाया गया है।

  • यह सुनिश्चित करें कि आपके हाथ सीधे आपके कंधों के नीचे हों और आपके घुटने आपके कूल्हों के नीचे हों। अपने वजन को चारों तरफ से समान रूप से संतुलित करें।

  • धीरे-धीरे साँस को बाहर निकालें, अपनी ठुड्डी को अपनी छाती से लगाएं और अपनी पीठ को मोड़ें।

  • फिर धीरे-धीरे गर्दन को ऊपर आसमान में उठायें और पीठ को नीचे की तरफ करें। जैसा की ऊपर इमेज में दर्शाया गया है।

  • इस मुद्रा को लगभग 1 मिनट तक लगातार करते रहें। और 2 से 3 बार दोहराएं।

दवाएं – kamar dard ki medicine

कमर दर्द के लिए बहुत सारी दवाइयां मार्किट में उपलब्ध हैं। नीचे कुछ दवाइयां का उल्लेख किया गया है। कृपया इन्हे लेने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह मशविरा जरूर करें।

चलिए अब जानते है kamar dard medicine name in hindi

  • Dolopar

  • Sumol 

  • Pacimol 

  • Dolo 

  • Combiflam 

ये दवाएं NSAIDS दवाएं हैं जो पीठ दर्द को कम करने में मदद करती हैं। ये दर्द निवारक दवाएं आपको दर्द से राहत दिलाने में भी मदद करेंगी।

दोबारा : डॉक्टर से बात किए बिना ये दर्द निवारक दवाएं कभी नहीं लेनी चाहिए। क्योंकि डॉक्टर से बात किए बिना  इनके फायदे की बजाय गंभीर दुष्प्रभाव देखने को मिल सकतें है।

कोर्टीसोन इंजेक्शन

यदि ये दवाएं दर्द से छुटकारा नहीं दिला पा रहे हैं, तो डॉक्टर दर्द से राहत दिलाने के लिए कोर्टीसोन इंजेक्शन लगवाने की पुष्टि कर सकता है। यह इंजेक्शन तंत्रिका जड़ों के आसपास की सूजन को कम करने में मदद करता है। और दर्द से राहत दिलाता है।

एंटीडिप्रेसन्ट

कभी-कभी एंटीड्रिप्रेसेंट्स और अन्य दवाओं का उपयोग पीठ दर्द के इलाज के लिए किया जा सकता है।

यदि आपका पीठ दर्द गंभीर है, तब आपका डॉक्टर एमिट्रिप्टीलाइन, एक ट्राइसाइक्लिक एंटीड्रिप्रेसेंट दवाएं लिख सकता है। क्योंकि यह दर्द के विभिन्न भागों पर केंद्रित करता है। यह एंटीडिप्रेसेंट तंत्रिका संबंधी दर्द के लिए भी बेहतर काम कर सकता है।

कमर दर्द के इलाज के लिए सर्जरी

सर्जरी एक अंतिम उपाय है जो गंभीर पीठ दर्द से राहत दिला सकता है। लेकिन पीठ दर्द के लिए शायद ही कभी इसकी आवश्यकता पड़े। आपका डॉक्टर यह तय करता है कि आपको सर्जरी की आवश्यकता है या नहीं।

यदि आपको सर्जरी की आवश्यकता है तो वह स्पाइनल फ्यूजन सर्जरी करता है। यह सर्जरी दर्दनाक कशेरुकाओं को एक एकल, अधिक ठोस हड्डी में जोड़ दिया जाता है। यह रीढ़ की दर्दनाक गति को खत्म करने में मदद करता है।

वैकल्पिक तरीके जो दें सकतें है 2 मिनट में कमर दर्द से आराम

  • एक्यूपंक्चर

  • मालिश

  • कायरोप्रैक्टिक समायोजन

अस्थमा के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज

घरेलू इलाज – home remedies for back pain in hindi

home remedies for back pain in hindi

पारंपरिक पीठ दर्द के इलाज के साथ-साथ कई घरेलू उपचारों का उपयोग भी किया जा सकता है। यदि आपके पास इनके बारे में प्रश्न हैं, तो अपने नजदीकी डॉक्टर से सलहा लें।

तो चलिए जानते है back pain treatment at home in hindi

बर्फ की सिकाई से करें पीठ दर्द का घरेलू इलाज

back pain से राहत पाने के लिए सबसे असरदार तरीका बर्फ की सिकाई करना है। बर्फ की सिकाई पीठ दर्द के तीव्र चरणों में सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। बस इस बात का ध्यान रखें की बर्फ को सीधे अपनी त्वचा पर न लगाएं। अपनी त्वचा को नुकसान से बचाने के लिए इसे एक पतले तौलिये या रुमाल में लपेटकर सिकाई करें।

एक्सरसाइज से करें पीठ दर्द का घरेलू इलाज

kamar ke dard से छुटकारा पाने के लिए लगातर एक्सरसाइज करें। क्योंकि एक्सरसाइज करने से पीठ और पेट की मांसपेशियां मजबूत होती है। जो पीठ के दर्द से राहत दिलाते है।

पीठ और पेट की मांसपेशियां को मजबूत करने के लिए आप ब्रिज एक्सरसाइज या पेट से जुडी एक्सरसाइज कर सकतें है।

तेल की मालिश से करें कमर दर्द का इलाज

शोध से पता चला है कि लैवेंडर का तेल पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। यह तेल प्रभावित क्षेत्र की नसों को निष्क्रिय कर देता है और आपको होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाता है।

इस तेल का उपयोग करने के लिए आपको प्रभावित क्षेत्र में इस तेल की मालिश करनी होगी।

नमक के पानी से नहाएं- कमर दर्द का घरेलू इलाज

नमक के पानी से स्नान मांसपेशियों में दर्द के लिए चमत्कारी साबित हो सकता है। नमक के पानी से स्नान करके, आपका शरीर नमक के खनिजों को अवशोषित (absorbed) कर लेता है, जो मांसपेशियों में होने वाले दर्द को कम करने में मदद करता है।

पीठ दर्द को कम करने के लिए घरेलू उपचार अत्यधिक प्रभावी हो सकते हैं। उनका उपयोग कैसे करें और वे कैसे काम करते हैं, इसके बारे में हमने ऊपर बता दिया है।

कमर दर्द से राहत पाने के लिए परीक्षण कैसे करें?

आमतौर पर डॉक्टर कमर दर्द से राहत पाने के लिए शारीरिक जाँच करतें है। अगर आपको कमर दर्द की गंभीर समस्यां है तो आपका डॉक्टर निम्नलिखित परीक्षण से आपकी शारीरिक जाँच करता है। इनमे शामिल है –

  • आपके खड़े होने और चलने की क्षमता

  • लेग स्ट्रैंथ

  • रीढ़ की गति की सीमा

यदि आपको पीठ के निचले हिस्से में दर्द नामक स्थिति का संदेह है, तो आपका डॉक्टर अन्य परीक्षणों का आदेश दे सकता है, जिनमें शामिल हैं। जैसे –

  • रक्त और मूत्र परीक्षण

  • रीढ़ की हड्डी का एक्स-रे

  • सीटी स्कैन

  • बोन स्कैन

ब्रेन हेमरेज के लक्षण, कारण और बचने के उपाय

कमर दर्द को कैसे रोकें?

कमर दर्द की गंभीर स्थिति  से बचने के लिए आप इन टिप्स को फॉलो कर सकतें है। 

भारी सामान न उठाएं

भारी सामान उठाने से आपकी गर्दन और रीढ़ की हड्डी पर अनावश्यक जोर पड़ता है जो back pain को बढ़ावा देता है। भारी भरकम सामान उठाने की बजाय आप छोटे-मोठे बैग इत्यादि उठायें।

आपको जो भी उठाने की आवश्यकता हो से कम करने का प्रयास करें, और ऐसे बैग का उपयोग करें जो वजन को समान रूप से वितरित करते हैं, जैसे बैकपैक। यदि आप कर सकते हैं, तो अपनी पीठ से वजन को पूरी तरह से दूर रखने के लिए पहियों वाले बैग का उपयोग करें।

मांसपेशियों को बनाये मजबूत

कमर दर्द की समस्या से बचने के लिए आपको अपने पेट और पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करना चाहिए। क्योंकि पेट और पीठ के अंदर और आसपास की मांसपेशियां आपको सीधा रखने में मदद करती हैं और आपकी शारीरिक गतिविधियों के माध्यम से आपको आगे बढ़ाती हैं।

अगर ये मांसपेशियां मजबूत नहीं होंगी तो आपको कमर दर्द की समस्या या शिकायत होगी। सप्ताह में कम से कम 3 दिन पेट और पीठ की मांसपेशियों के लिए व्यायाम करें।

कमर दर्द से राहत पाने के लिए अपनी मुद्रा में सुधार करें

खराब मुद्रा आपकी रीढ़ पर अनावश्यक दबाव डाल सकती है। समय के साथ, यह दर्द पैदा करने की संभावना को भी बढ़ा सकता है। इसलिए कमर दर्द से राहत पाने के लिए आपको अपने पोस्चर में सुधार करना चाहिए। और इसका नियमित रूप से पालन करें।

ध्यान रखें की कुर्सी पर सीधा बैठें और कमर को न मोड़ें।

कमर दर्द के जोखिम कारक क्या है?

ये निम्नलिखित कारक पीठ के निचले हिस्से के दर्द से जुड़े हुए है।

  • गर्भावस्था

  • एक गतिहीन जीवन शैली

  • बढ़ती उम्र

  • मोटापा और अधिक वजन

  • आनुवंशिक कारक

  • धूम्रपान

  • चिकित्सा की स्थिति, जैसे गठिया और कैंसर रोग

  • शारीरिक फिटनेस का न होना

आपके भावनात्मक स्वास्थ्य का भी आपके back pain के जोखिम पर प्रभाव पड़ता है। यदि आप तनावपूर्ण नौकरी करते हैं या आपको अवसाद और चिंता है तो आपको कमर दर्द की शिकायत रहेगी।

हार्ट ब्लॉकेज के कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपाय

निष्कर्ष

कमर दर्द एक आम बीमारी है, और आप जितने बड़े होंगे, आपको इसका अनुभव होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। वास्तव में, अधिकांश भारतीय अपने जीवन में किसी न किसी मोड़ पर कमर दर्द की समस्या से सामना करेंगे।

जो लोग कमर दर्द की शिकायत से परेशान है या परेशान होने वाले है तो उन्हें यह home remedies for back pain in hindi का लेख पढ़ा सकतें है। क्योंकि इस लेख में हमने सरल भाषा में कमर दर्द से राहत पाने के लिए जरूरी उपायों का उल्लेख किया है, जो बहुत ही जल्द इस समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करेंगे।

मुझे उम्मीद है कि अब आप kamar dard ka desi nuskha  जान गए होंगे। अगर आप कमर दर्द से जुड़ी कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को देखें।

अगर आपको home remedies for back pain के लेख से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट के जरिये जरूर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *