कलौंजी के हैरान कर देने वाले फायदे और नुकसान – Kalonji Benefits in Hindi

2
6
kalonji in hindi

kalonji in hindi :- कलौंजी का पौधा सौंफ के पौधे से थोड़ा छोटा होता है। इसके नीले और पीले फूल होते हैं, इनके बीज, जिन्हें हम kalonji कहते हैं, काले रंग के होते हैं, कलौंजी लगभग हर घर में मौजूद एक चीज है।

यह जीवन गुणों से भरपूर एक कारगर औषधि है, लेकिन इसके गुणों के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं, कलौंजी कई बीमारियों में फायदा करती है और बहुत से रोगों को दूर करती है।

आज हम कलौंजी के माध्यम से कुछ बीमारियों के इलाज के बारे में बात करेंगे, जो न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक उपचार में भी फायदेमंद है।.

नीचे दिए गए पोस्ट में आप जानेंगे कि कलौंजी क्या है, कलौंजी को कैसे लिया जाएँ और कलोंजी के फायदे और नुकसान।

तो आइये  सबसे पहले जानते है कलौंजी क्या होता है बताओ – Kalonji kya hota hai

कलोंजी क्या है? – What is kalonji in hindi

Kalonji एक तरह का बीज होता है जिसका पेड़ करीब 12 इंच लंबा होता है। इसके बीजों का उपयोग कई स्वादिष्ट व्यंजनों में मसाले के रूप में भी किया जाता है।

इस पौधे को अंग्रेजी भाषा में Black Seeds in hindi के नाम से भी जाना जाता है। मुख्य रूप से यह पौधा दक्षिण-पश्चिम एशिया (South-West Asia) में पाया जाता है।

लेकिन इसकी डिमांड इंडिया, पाकिस्तान और बांग्लादेश आदि देशो में भी है। यह पौधा अन्य देशो में काले बीज के नाम से भी प्रसिद्ध है।

इस पौधे का उपयोग करीब 2000 सालो से औषधि के रूप में किया जा रहा है इसीलिए यह जीवन गुणों से भरपूर एक कारगर औषधि है।

यह पौधा कई एमीनो एसिड से भरपूर है जो शरीर में प्रोटीन की कमी को पूरा करता है। इसके अंदर पाए जाने वाले पदार्थ जैसे कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, सोडियम बहुत सारे मैक्रो न्यूट्रिएंट्स से भरपूर है।

kalonji ka tel BP को कम करने तथा शरीर में  कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने में लाभदायक है।

इसके इतने सारे फायदों को देखकर ही हमने यह kalonji ke fayde aur nuksan का लेख लिखा है।

कलौंजी का सेवन कैसे करें – kalonji ka sevan kaise Karen

अक्सर लोग पूछते है की kalonji ka sevan kaise karna chahiye, देखें कलोंजी का सेवन आप कई रूप में कर सकतें है।

जैसे –

  • आप कलौंजी  को पानी में उबालकर फिर छान लें और इस पानी को पीएं।

  • एक तरीका यह भी है कि आप कलौंजी को दूध में उबाल लें और जब दूध ठंडा हो जाए तो इसे छानकर पी लें।

  • आप कलौंजी को मिक्सर में अच्छी तरह से ग्राइंड कर लें और पानी या दूध के साथ इस चूर्ण का सेवन करें।

तो चलिए अब कलौंजी के फायदे और नुकसान जानने की कोशिश करते है।

और पढ़ें :- गिलोय के फायदे और नुकसान (Giloy Juice Benefits In Hindi)

कलौंजी के फायदे इन हिंदी – kalonji benefits in hindi

kalonji benefits in hindi
Kalonji Benefits in Hindi

आमतौर पर कलौंजी का इस्तेमाल खाना बनाने या किसी चीज में स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन यह बीज खाने को स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ कई स्वास्थ्य लाभ भी देता है।

कलौंजी का इस्तेमाल आप अपनी सेहत के लिए कैसे कर सकते हैं, चलिए जानते है।

कलौंजी के फायदे बताओ – kalonji benefits in hindi

कलौंजी तेल के फायदे बालों के लिए – kalonji ka tel for Hair in Hindi

दोस्तों जली हुई कलोंजी को बालों के तेल में मिलाकर सिर पर नियमित मालिश करने से गंजापन दूर होता है और बाल झड़ रहे हैं तो नए बाल उग आते हैं।

कलौंजी के फायदे त्वचा के लिए – Kalonji for Skin in Hindi

काले बीज (कलौंजी) को पीसकर सिरके में मिलाकर रात को सोने से पहले चेहरे पर लगाएं और सुबह ठंडे पानी से चेहरा धो लें, ऐसा करने से आपके मुंहासे 7 दिनों में ठीक हो जाते हैं।

कान की सूजन के लिए (For Ear Inflammation)

कान की सूजन या बहरेपन में कलोंजी के तेल को अच्छी तरह से लें और ठंडा करके कान में डालने से कान की सूजन खत्म हो जाती है और साथ ही बहरापन और ऊँचा सुनने जैसे रोगों में खत्म हो जाते है।

कलोंजी का उपयोग पेट के लिए  – kalonji ke fayde pet ke liye

10 ग्राम kalonji को 3 चम्मच शहद में मिलाकर रोजाना रात को सोते समय कुछ दिनों तक सेवन करने से पेट के कीड़े पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं।

कलौंजी का उपयोग प्रसव के लिए  – Kalonji Uses for Post Delivery in Hindi

प्रसव पीड़ा में कलौंजी का काढ़ा बनाकर सेवन करने से प्रसव की पीड़ा में आराम मिलता है। 

कलौंजी के अन्य फायदे –  Kalonji Ke fayde in Hindi

  • पुराने ज़ुकाम और नजले को ठीक करने के लिए आप आधा कप पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल व एक चौथाई चम्मच जैतून का तेल मिलाकर इसे उबाल लें, ध्यान रखें की उबलते समय  पानी खत्म हो जाए और केवल तेल ही रह जाए,  फिर इसके बाद आप इसे छानकर 2 बूंद नाक में डालें, ऐसा करने से आपकी पुरानी सर्दी-जुकाम ठीक हो जाते है।

  • ब्लैक सीड्स (कलोंजी) के चूर्ण को नारियल के तेल में मिलाकर प्रभावित त्वचा पर मालिश करने से चर्म रोगों में आराम मिलता है। 

  • कलौंजी के तेल के फायदे है कि, आंखों में लाली हो या फिर मोतियाबिन्द, आंखों से पानी आता हो या आंखों की रोशनी कम हो, कैसे भी रोग हो, यह सभी के लिए फायदेमंद है। इसके लिए आपको लगभग आधा चम्मच कलौंजी का तेल में दो चम्मच शहद मिलाकर कम से कम 2 बार सेवन से यह सभी समस्याएं दूर होती है।

  • अक्सर यह पूछा जाता है की कलोंजी पीने के क्या फायदे है, इसके लिए आप एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलोंजी का तेल मिलाकर रात को सोते समय पीने से तंत्रिका संबंधी विकार और मानसिक तनाव दूर होते हैं।

कलोंजी के घरेलु उपाय – Home Remedies Home Remedies for Kalonji in Hindi

home remedies for kalonji in hindi
Home Remedies for Kalonji in Hindi

कलौंजी के तेल के फायदे हिंदी में (Kalonji oil benefits in hindi)

एक चौथाई कलौंजी के तेल में एक कप दूध के साथ कुछ महीने तक प्रतिदिन पीने और रोगग्रस्त अंगों पर कलौंजी के तेल की मालिश करने से लकवा ठीक होता है।

मलेरिया को ठीक करता है (Cures Malaria)

आधा चम्मच पिसी हुई कलोंजी में एक चम्मच शहद मिलाकर चाटने से मलेरिया का बुखार ठीक हो जाता है।

स्वप्नदोष के लिए फायदेमंद है कलौंजी (Kalonji is beneficial for Nightfall)

कुछ लोगों को सोते समय वीर्य निकल जाने की समस्या रहती  है। इस समस्या को दूर करने के लिए एक कप सेब के रस में आधा चम्मच कलोंजी का तेल मिलाकर दिन में दो बार सेवन करने से स्वप्नदोष संबंधी विकार दूर होते हैं।

पेट के लिए फायदेमंद है कलौंजी (kalonji seeds Benefits for Stamach in hindi

एक कप पानी में 50 ग्राम ताजा पुदीना उबालें, अब इस पानी में आधा चम्मच कलोंजी  का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट सेवन करने से 21 दिन में खून की कमी दूर हो जाती है।

कलौंजी के अन्य घरेलू उपाय – Kalonji ke labh in Hindi

  • कलौंजी की भस्म को बबासीर के मस्सों पर नियमित रूप से लगाने से बवासीर की बीमारी ठीक हो जाती है।

  • अगर किसी को चोट लग जाए या मोच आ जाए, शरीर के उस हिस्से में सूजन आ गई हो तो उसे दूर करने के लिए कलोंजी को पानी में पीसकर सूजन वाली जगह पर लगाने से सूजन दूर होगी और दर्द में भी आराम मिलेगा।

  • पथरी के रोगों में आप 250 ग्राम कलौंजी के बीजों को पीसकर 125 ग्राम शहद के साथ मिला लें और फिर इसमें आप आधा कप पानी और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिला लें, इसको आप रोज़ाना 2 बार खाली पेट सेवन करें,  इस तरह से आपको 21 दिन तक इसको पीने से पथरी गलकर पेशाब के रास्ते बहार निकल जाती है।

  • यदि गर्भवती महिला के स्तनों में दूध नहीं आता है या दूध बहुत कम मात्रा में निकलता है तो आप उसे लगभग एक ग्राम कलोंजी रोज सुबह-शाम दे सकते हैं, जिससे गर्भवती महिला के स्तनों में दूध बनता है।  

और पढ़ें :- बबूल ट्री (Babool Tree) के बारे में फायदे और नुकसान

कलौंजी के नुकसान बताएं – Kalonji ke Nuksan in Hindi

  • गर्मी और तीखापन बर्दाश्त नहीं करने वाले लोग इसका सेवन न करें।

  • यह कुछ लोगों में जलन या पेट खराब का कारण बन सकता है।

  • यह BP को कम करता है, इसीलिए हाई BP वाले मरीज इसमें एहतियात बरतें।

  • गर्भावस्था के समय इसके सेवन से बचना चाहिए, बच्चे और स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसे सीमित मात्रा में ले।

  • जिन महिलाओं को बहुत अधिक मासिक धर्म होता है उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए। उनके लिए यह नुकसानदायक हो सकता है।

और पढ़ें :- डायबिटीज को कम करने के लिए घरेलु उपाय – Home Remedies To Reduce Diabetes In Hindi

निष्कर्ष (Conclusion)

अब आप जान ही गए होंगे की कलोंजी खाने के फायदे अनेक है। आप कलोंजी के नियमित सेवन से इसके बहुत सारे फायदों का मजा उठा सकतें है। बशर्ते इसे सही और नियमित रूप से सेवन  किया जाएँ।

आशा करता हूँ की आपको हमारा यह kalonji seeds in hindi का लेख पसंद आया होगा। अगर आपको यह पसदं आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आपके परिवार में से कोई uses of kalonji oil in hindi को जानना चाहता है तो आप उसे हमारा यह benefits of kalonji seeds in hindi का लेख भेज सकतें है।

और पढ़ें :- हेल्थ श्रेणी के बारे में