उल्टी रोकने के 8 आसान घरेलू उपाय – Home Remedies to Stop Vomiting in Hindi (Ulti ka Ilaj in Hindi)

vomiting in hindi

Vomiting in hindi : उल्टी किसी भी समय और किसी को भी हो सकती है। लेकिन महिलाओं को अधिकतर उल्टियां करने की शिकायत रहती है। ऐसा किस कारणवश होता है। देखें, उल्टी के पीछे कई कारण हैं, जैसे – ज्यादा खाना खा लेना, ज्यादा शराब पीना, गर्भवती होना और पेट में  गड़बड़ी जैसे – एसिडिटी,  कब्ज इत्यादि।

आमतौर पर जब भी किसी को उल्टी आती है, तो वह सबसे पहले दवाइयां लेने की सोचता है। लेकिन क्या आपको पता है कि ulti rokne ke gharelu upay भी है, जिसकी मदद से आप घर पर ही कुछ नुस्खों के द्वारा उल्टी को रोक सकतें है।

जी हाँ, दोस्तों आज हमने इस लेख में उल्टी रोकने के घरेलु उपाय, उल्टी के कारण और इससे संबंधित कुछ जानकारियां बताई है, तो अंत तक हमारे लेख को पूरा पढ़ें।

तो चलिए सबसे पहले जानते है उल्टी क्या है? – vomiting meaning in hindi

उल्टी क्या है?

उल्टी को कई तरह से समझा जा सकता है। जैसा – शरीर की बनावट लगभग सभी की समान है। ऐसी स्थिति में, अगर हम अनावश्यक पदार्थ का सेवन करते है तो हमारा पेट उसे पचा नहीं पाता है, जिस कारणवश वह उसे बाहर निकाल देता है। जो की vomiting का कारण बनता है।

इसी प्रकार, शरीर में पेट के अंदर विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने की शारीरिक प्रक्रिया को भी उल्टी कहा गया है।

उल्टी एक अनियंत्रित अनैच्छिक (involuntary) शारीरिक प्रक्रिया है, जो मुंह

के रस्ते पेट में मौजूद विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देता है।

और पढ़ें :- वायरल बुखार के लक्षण, घरेलू उपचार और बचाव के उपाय

उल्टी होने के कारण – Causes of vomiting in hindi

Causes of vomiting in hindi

उल्टी होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनका उल्लेख हमने नीचे विस्तार से बताया है। तो चलिए जानते है उल्टी होने के पीछे क्या कारण है? – Ulti hone ke kya karan hai

  • असंतुलित आहार जैसे कोल्ड्रिंग, चिप्स, जंकफूड इत्यादि गम्भीर रूप से उल्टियां हो सकती हैं।

  • अक्सर देखा गया है कि फूड पॉइजनिंग की वजह से भी उल्टियां हो सकती हैं।

  • बुखार और ठंड होने पर भी उल्टी हो सकती है।

  • सिर दर्द और कान के भीतरी हिस्से में होने वाली परेशानी से भी उलटी हो सकती है।

  • दिमाग में इंट्राक्रैनियल दबाव में वृद्धि के कारण, या जब दिमाग पर चोट या दवाब पड़ता है तो यह उल्टी का कारण बन जाता है।

  • यह norovirus और rotavirus नामक संक्रमण के वायरस के समूह से भी उल्टी का कारण बन सकता है।

  • इसी प्रकार, किसी भी तरह की गंध या किसी भी आवाज जैसे हानिकारक उत्तेजना, जो मस्तिष्क को प्रभावित कर सकती है, उससे उल्टी हो सकती है।

  • पेट की बीमारी जैसे – अल्सर के कारण, पेट में होने वाले छाले के कारण, यह सब उल्टी शुरू कर देता है। क्योंकि यह पेट में मौजूद रक्षात्मक परत को नुकसान पहुंचाता है, जो उलटी का कारण बनता है।

  • अल्कोहल, धूम्रपान और गैर-खतरनाक विरोधी भड़काऊ दवाओं जैसे इबुप्रोफेन इत्यादि के कारण, पेट में जलन होने लगती हैं। जो उलटी होने का कारण बनती है।

  • यह समस्या Gastroenteritis नामक एक स्टमक फ्लू (Stomach Flu) से भी हो सकती है।

  • उल्टी एक सामान्य वायरस या किसी अन्य संक्रमण के कारण भी हो सकती है। अक्सर पेट में जलन के कारण उल्टी हो जाती है।

  • Ulti भी गैस्ट्रोसोफेजियल रिफ्लक्स (Gastrosophogic Reflex) रोग से जुड़ा हुआ है। इसे रिफ्लक्स एसोफैगस (Reflux Asophagus) भी कहा जाता है। इसकी वजह से भी उलटी हो सकती है।

उल्टी होने के अन्य कारण – Other causes of vomiting

  • उच्च तापमान के कारण या दिमाग में गर्मी के कारण यह समस्या हो सकती है।

  • ऐसी कई बीमारियां हैं जो पेट के आंतरिक अंगों को प्रभावित करती हैं, जो मतली और उल्टी के लक्षण विकसित करती हैं, जिसमें पाचन अंगों की बीमारी, जैसे हेपेटाइटिस, पैटर्न रोग, गुर्दे की बीमारी, कैसर और कीटाणुशोधन इत्यादि शामिल हैं।

  • मधुमेह से पीड़ित लोगों को अक्सर उल्टी और मतली जैसी समस्याएं होती हैं, क्योंकि उनके रक्त में वसा का स्तर असामान्य रूप से घटता या बढ़ता रहता है इसीलिए इंसुलिन का संतुलन उनके रक्त में खराब हो जाता है। जो उलटी का कारण बनता है।

  • इसके अलावा, हर्निया और पाचनतंत्र संबंधित बिमारियों से भी यह समस्या हो सकती है।

और पढ़ें :- डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय – Sugar Ke Gharelu Upay : Sugar Ka Ilaj

गर्भवती महिलाओं को उल्टी आने के कारण – Causes of vomiting in pregnant women in hindi

गर्भवती महिलाओं को उल्टी आने के कई कारण हो सकतें है। उनमे से कुछ कारण इस प्रकार है।

  • गर्भावस्था के दौरान, शरीर में अनेक परिवर्तन होते हैं जो शरीर में अम्लता की समस्या को उजागर करते हैं, जिससे उल्टी होने लगती है।

  • गर्भवती महिलाओं को मसाले वाले भोजन, लहसुन जैसे तेज महक वाले पदार्थ और इत्र की तेज सुगंध के कारण उल्टी हो जाती है।

  • गर्भावस्था के दौरान एचसीजी (ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन) और एस्ट्रोजन नामक हार्मोन बढ़ जाते हैं। यदि यह अधिक मात्रा में बढ़ जाए तो गर्भवती महिला को उल्टी हो सकती है।

  • शरीर में तनाव बढ़ने के कारण गर्भवती महिलाओं को उल्टी भी हो सकती है।

  • कभी-कभी एक से अधिक गर्भधारण करने के कारण भी गर्भावस्था के दौरान उल्टी हो है।

  • अगर कोई महिला गर्भवती होने से पहले गर्भनिरोधक गोलियां ले रही है, तो इससे उल्टी भी हो सकती है।

  • अगर आपको माइग्रेन जैसी कोई शिकायत है, तो माइग्रेन गर्भवती महिलाओं में उल्टी का कारण भी बन सकता है।

और पढ़ें :- पेट के कीड़े होने के कारण, लक्षण और बचाव के उपाय – Pet Me Kide Ke Gharelu Upay In Hindi

उल्टी रोकने के घरेलू उपाय – How to stop vomiting in hindi

how to stop vomiting in hindi

कई बार सामान्य शारीरिक समस्याओं के लिए भी लोग दवाओं का इस्तेमाल करते है। जो की गलत है। अगर आप ulti rokne ke liye dava का इस्तेमाल न करके ulti rokne ke liye gharelu upay का उपयोग करते है तो शायद ही आपको उल्टी जैसी समस्या फिर कभी हो।

तो चलिए जानते है उल्टी रोकने के उपाय इन हिंदी – ulti rokne ke upay gharelu in hindi

अदरक, सौंफ या लौंग का करें इस्तेमाल –

अदरक 

मतली की स्थिति में एक कप गर्म अदरक की चाय की चुस्की लें। या धीरे-धीरे ताजा अदरक की जड़ या कैंडिड अदरक का एक छोटा टुकड़ा खाएं। एक शोध की अनुसार उल्टी को रोकने और मतली इलाज के लिए अदरक एक प्रभावी और सुरक्षित उपाय है।

अदरक की चाय बनाने के लिए आप  एक कप गुनगुने पानी में एक चम्मच ताज़ी पिसी हुई अदरक की जड़ मिलाकर, इसे उबलने दें, फिर इस चाय को पी लें। 

सौंफ

उल्टी को रोकने के लिए सौंफ की चाय पर कोई ठोस प्रमाण नहीं मिला है, लेकिन वास्तविक सबूत बताते हैं कि मतली की स्थिति में एक कप सौंफ की चाय पीने से मतली और उल्टी में राहत मिलती है।

माना जाता है कि सौंफ के बीज पाचन तंत्र को शांत करने में मदद करते हैं। सौंफ की चाय बनाने के लिए एक कप गर्म पानी में एक चम्मच सौंफ के बीज मिलाएं। इसे कुछ देर उबलने दें,  फिर कुछ देर बाद इसे छानकर पी लें।

लौंग

मतली और उल्टी को रोकने के लिए भी लौंग एक कारगर उपाय है। लौंग की चाय बनाने के लिए एक कप गर्म पानी में एक चम्मच लौंग मिलाएं, इसे कुछ देर उबलने दें, फिर इस चाय को थोड़ा ठंडा करके पी लें।

धनिया का प्रयोग उल्टी की समस्या के लिए – dhaniye se karen ulti ka desi ilaj in hindi

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि धनिये का इस्तेमाल सिर्फ खाने-पीने की चीजों में ही किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि धनिये का इस्तेमाल उल्टी की समस्या से निजात पाने के लिए भी किया जाता है।

यदि आप आयुर्वेदिक दवा के रूप में धनिया का उपयोग करते हैं तो आप तुरंत उल्टी से छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए हरी धनिया का रस निकाल लें, और उसमे थोड़ा-सा सेंधा नमक, और एक नींबू डालकर पीने से उल्टी में तुरंत लाभ मिलता है।

उल्टी को रोकने के लिए तुलसी का उपयोग – Use of basil to stop ulti in hindi

चार-पांच तुलसी के पत्तों का रस निकालकर उसमें शहद मिलाकर पीने से आपकी उल्टी और आने वाली इकाइयां बंद हो जाएंगी। अगर बार-बार उल्टी आ रही हो तो प्याज के रस में शहद मिलाकर पियें तो आपको बहुत आराम मिलेगा।

उल्टी से आराम पाने के लिए इलायची का उपयोग – Use of cardamom to get relief from vomiting

इलायचीके बीज खाने से उल्टी तुरंत बंद हो जाती है। इलायची का उपभोग करके, अम्लता और अपचन की समस्या को हटा दिया जाता है और उल्टी में बहुत आराम होता है।

यदि आप इस समाधान का उपयोग करते हैं तो आपको बहुत लाभ मिलेगा।

उल्टी को रोकने के लिए पानी का सेवन – Drinking water to stop vomiting

बार-बार उल्टी होने से शरीर में पानी का स्तर कम हो जाता है। जो अधिक उल्टी होने का कारण बनता है। इसिलए थोड़ी-थोड़ी देर बाद पानी पीते रहे। सिंपल पानी पीने के बजाय उसमे एक नींबू और नमक डालकर पीने से आपको बहुत लाभ होगा।

उल्टी की समस्या के लिए प्याज का उपयोग – Home Remedy to Control Ulti ka ilaj in Hindi

उल्टी को रोकने के लिए प्याज भी बहुत फायदेमंद होता है। इसके लिए एक चम्मच प्याज के रस में एक चम्मच अदरक डालकर थोड़ी-थोड़ी देर बाद पीने से उल्टी की समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है।

यह उपाय उल्टी को रोकने के लिए बहुत कारगर है।

लौंग के इस्तेमाल से उल्टी को रोकें – Stop vomiting with cloves

उल्टी को रोकने में लौंग भी बहुत मददगार साबित होती है। आप लौंग को सिंपल भी चूस सकते हैं या लौंग और दालचीनी का काढ़ा बनाकर भी  पी सकते हैं। इस काढ़े को बनाने के लिए आप ढाई सौ ग्राम पानी में 5 लौंग डालकर उबाल लें। जब पानी आधा रह जाये तब  इसमें थोड़ी सी मिश्री, या चीनी मिलाकर पियें।

यह उपाय उल्टी रोकने में बहुत फायदेमंद होता है।

उल्टी को रोकने के लिए केले का सेवन – Banana Consumption for home remedies for vomiting

केला खाने से आप उल्टी आने को रोक सकतें है। हालांकि, केला आपके पेट की समस्याओं को दूर करता है और आपके शरीर को हीलिंग एनर्जी देता है। साथ ही यह खून की उल्टी को भी रोकने में मदद करता है।

क्योंकि केले में कई एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो आपके पेट से जुड़ी समस्या को दूर कर आपकी भूख बढ़ाते हैं। और उल्टी को रोकते है।

उल्टी रोकने के लिए अदरक का इस्तेमाल – Use of ginger to stop vomiting

अदरक के इस्तेमाल से भी उल्टी को रोका जा सकता है। अदरक और नींबू के रस को बराबर मात्रा में डालकर एक रस तैयार कर लें। फिर इस रस को पियें।अदरक में एंटी-एमिटिक गुण होते है, जो पाचन समस्याओं को ठीक करने और उल्टी को रोकने में प्रभावी है।

नीम से करें उल्टी रोकने का उपचार – Remedy to stop vomiting with neem

उल्टी रोकने के लिए नीम एक कारगर औषधि है। 20 ग्राम नीम के कोमल पत्ते लेकर पीस लें। फिर इसमें एक गिलास पानी डालकर थोड़ी-थोड़ी देर बार पीते रहे, यह उपाय उल्टी को रोकने में बहुत प्रभावी है।

इसके साथ ही आप नीम की छाल का रस निकालकर शहद के साथ पीने से आपको ulti rokane में बहुत लाभ होगा।

और पढ़ें :- गुर्दे की पथरी के लक्षण, कारण और घरेलू इलाज – Home Remedies For Kidney Stone In Hindi

बच्चों में उल्टी रोकने के घरेलू उपाय –

बच्चों में उल्टी रोकने के घरेलू उपा

आमतौर पर बच्चों में उल्टी होना कोई गंभीर समस्या नहीं है। क्योंकि बदलते मौसम के साथ बच्चों में वायरस, मोशन सिकनेस या फूड पॉइजनिंग के कारण भी उल्टी हो सकती है। लेकिन अगर आपका बच्चा बार-बार उल्टी कर रहा है तो यह आपके लिए चिंता का विषय है।

आप बच्चे को ulti ki dawa भी देने के बारे में सोच सकतें है। लेकिन कई बार ज्यादातर बच्चे उल्टी रोकने की दवा का सेवन करने से कतराते हैं। यदि आपका बच्चा भी ulti rokne ki dawa का सेवन नहीं करता है तो आप vomiting rokne ke upay आजमा सकतें है। आगे हमने लेख में, बच्चों में उलटी रोकने के घरेलू उपाय बताये है, उन्हें पढ़ना न भूले।

प्राकृतिक घरेलु नुस्खे – Baccho me ulti rokne ke gharelu nuskhe

निम्नलिखित घरेलू उपचारों की मदद से आप बच्चों में उल्टी को रोक सकते हैं। तो चलिए जानते है baccho me ulti rokne ka tarika

बच्चों को ज्यादा-ज्यादा तरल पदार्थ पिलायें –

यदि आपका बच्चा बार-बार उल्टी कर रहा है, तो यह डिहाइड्रेशन या थकान महसूस करने के कारण हो सकता है। यह बहुत जरूरी है कि आप उसे हाइड्रेटेड रखें और उसकी खोई हुई ऊर्जा को वापिस लाएं।

उसे हाइड्रेटेड रखने के लिए उसे खूब सारा तरल पदार्थ पिलायें। सुनिश्चित करें कि बच्चे को नियमित अंतराल पर तरल पदार्थ दिए जा रहा हैं, क्योंकि एक ही समय में पानी या कोई अन्य तरल पीने से उसे उल्टी होने की संभावना और भी बढ़ जाएगी।

बच्चों की उल्टी रोकने के लिए कैमोमाइल चाय पिलायें –

यह बच्चों में उल्टी रोकने के बहुत प्रभावी तरीकों में से एक है। कैमोमाइल (Chamomile) चाय को सुखदायक और शांत करने वाले गुणों के लिए जाना जाता है। यह पाचन में सहायता करने और मतली को दूर रखकर बच्चों में शांतिपूर्ण नींद (sleep) लाने में भी अच्छा काम करता है।

 एक चम्मच कैमोमाइल (Chamomile)) को गर्म पानी में डालकर उसमें शहद मिलाएं। इस चाय को अपने बच्चे को दिन में दो से तीन बार दें।

Baccho me vomiting ka ilaj के लिए लैवेंडर के तेल का प्रयोग करें – 

लैवेंडर का तेल एक सुगंधित तेल है जो आपके बच्चे को तरोताजा महसूस करने में मदद करेगा। यह तेल मतली से जुड़े सिरदर्द को ठीक करने और बच्चों में शांतिपूर्ण नींद लाने में भी मदद कर सकता है।

इसके लिए आप किसी तकिए या रूमाल पर लैवेंडर के तेल की कुछ बूंदें डालकर अपने बच्चे को सूंघने के लिए दे सकते हैं।

बच्चे को अदरक का रस और शहद मिलाकर दें –

vomiting ka ilaj के लिए यह सबसे अच्छा काम करता है। यह मतली और उल्टी को रोकने के लिए बहुत प्रभावी है। इसके लिए आप अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े को पीस लें, फॉर इसमें शहद की कुछ बूंदें मिलाएं। फिर इस मिश्रण को पने बच्चे को दिन में दो या तीन बार दें।

अदरक के रस और शहद का मिश्रण न केवल मतली को ठीक करेगा बल्कि पाचन तंत्र को भी मजबूत बनाएगा।

ये कुछ आसान घरेलू उपाय हैं जिन्हें आप तुरंत अपने बच्चे को देना शुरू कर सकतें है। अगर किसी कारणवश ये उपाय काम नहीं करते है तो अपनी नजदीकी चिकित्सक से सलहा जरूर लें।

उल्टी कोई गंभीर समस्या नहीं है और इसका इलाज घर पर ही किया जा सकता है। हालांकि, यह सुझाव दिया जा चूका है, लेकिन फिर भी ऊपर दिए गए घरेलू उपचारों में से किसी को भी आजमाने से पहले आप अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह अवश्य ले।

सफर के दौरान उल्टी रोकने के घरेलू उपाय – home remedies for vomiting During Travel

अगर आपको बस, कार या किसी अन्य माध्यम से यात्रा करते समय उल्टी होती है, तो यात्रा करने से पहले अदरक की चाय पीएं और यात्रा करें। इसके अलावा आप कुछ ऐसे उपाय भी कर सकते हैं जो सफर के दौरान उल्टी को रोकने में मदद कर सकता है।

जैसे – अदरक की कलियाँ  चबाएं।

क्योंकि अदरक की कलियाँ चबाने से पेट में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं, जिससे जी मिचलाना और उल्टी आना बंद हो जाती है।

यात्रा के दौरान उल्टी को रोकने के लिए इन चरणों का पालन करें:

  • कम से कम बस की गंध को सूंघें।

  • सफर के दौरान खिड़कियों के पास बैठ जाएं और ताजी हवा में सांस लें।

और पढ़ें :- डेंगू बुखार के लक्षण, घरेलू उपचार और बचाव के उपाय – Symptoms Of Dengue In Hindi

उल्टी बंद न होने पर डॉक्टर को कब दिखाएं –

अपने डॉक्टर को दिखाएं जब

  • दो दिन से अधिक समय से उल्टी हो रही है।

  • आपके बच्चे को एक दिन से अधिक समय से उल्टी हो रही है।

  • उलटी कभी आ जाती है कभी बंद हो जाती है।

  • आपका वजन कमहो गया है।

इस स्थिति में आपको डॉक्टर से सलहा लेनी चाहिए।

उल्टी के साथ ये चीजे होने पर आपातकालीन चिकित्सा बुलवाएं –

  • पेट में तेज दर्द

  • छाती में दर्द

  • चक्कर आना या बेहोशी

  • आखो की रोशनी कमी 

  • गर्दन में अकड़न

  •  बुखार

  • सरदर्द

Vomiting से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल –

बार बार उल्टी होने पर क्या करें?

बार-बार उल्टी होने पर इन चीजों को अपनाया जा सकता है।

  • अदरक का उपयोग पेट की हर समस्या को दूर करने का रामबाण इलाज है।

  • लौंग भी उल्टी रोकने का एक कारगर उपाय है।

  • सौंफ भी उल्टी  रोकने में फायदेमंद होता है। 

अधिक जानकारी के लिए ऊपर के लेख को पढ़ें।

बच्चे को उल्टी आ रही हो तो क्या करे?

अदरक, सौंफ और लौंग की चाय पिलायें।

उल्टी होने पर कौन सी दवा लेनी चाहिए?

उल्टी रोकने के लिए वोमिट 4mg टैबलेट बहुत कारगर दवा है। यह एक एंटीमैटिक दवा है जो आमतौर पर उल्टी को रोकने के लिए दी जाती है।

खाना खाने के बाद उल्टी जैसा क्यों लगता है?

खाना खाने के बाद उल्टी जैसा महसूस होना एसिडिटी के कारण होता है। हम खाने में कई ऐसी चीजें खाते हैं, जिससे पेट में एसिड बनने लगता है, जिससे उल्टी होने की संभावना बढ़ जाती है।

इसके अलावा खाना ठीक से न पचने के कारण भी उल्टी होने लगती है।

बच्चों को उल्टी होने पर क्या देना चाहिए?

जब कोई बच्चा उल्टी करता है, तो उसे बहुत कमजोरी महसूस होती है। कमजोरी दूर करने के लिए उसे सबसे पहले लिक्विड फूड देना चाहिए।

जिसमे बच्चों को हल्का सूप, चावल का पानी, जूस इत्यादि दे सकतें है।  

कई बार असंतुलित आहार जैसे कोल्ड्रिंग, चिप्स, जंकफूड इत्यादि की वजह से उल्टी जैसा लग सकता है। इसके अतिरिक्त फूड पॉइजनिंग भी उल्टी का मुख्य कारण है।

निष्कर्ष – Conclusion

इन आसान उपायों को अपनाकर (home remedies for vomiting) आप उल्टी को रोक सकते हैं। पेट से जुड़ी परेशानियां दूर करने के साथ-साथ पेट के विकारों को भी दूर करते हैं ये घरेलू नुस्खे, आपको जल्द ही उल्टी से निजात दिला सकेंगे।

और यात्रा के समय होने वाली परेशानी जैसे – सिरदर्द, पेट का दर्द, जी मिचलाना, और उल्टी आदि सभी समस्याएं दूर हो जाती है।

आशा करता हूँ की अब आप symptoms of vomiting in hindi language जान गए होंगे। अगरआप इसके कारणों और लक्षणों को जानना चाहते है तो एक बार हमारे लेख पर नजर डालें।

अगर आपको vomiting meaning in hindi के लेख से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट के जरिये जरूर बताएं।