गले के कैंसर के लक्षण (इलाज और बचाव)

गले के कैंसर के लक्षण (इलाज और बचाव)

Contents

Spread the love

गले के कैंसर के लक्षण

हर साल देखा गया है कि गले के कैंसर की वजह से लाखो लोग अपनी जान गवां बैठते हैं। पूरी दुनिया में  इस खतरनाक बीमारी से लोग प्रभावित होते है। 

यह बीमारी जितनी बोलने में आसान लगती है वैसे है नहीं।

यह इतनी खतरनाक बीमारी है, जिसका नाम सुनकर ही लोग कांपने लगते हैं। अगर इस बीमारी का सही समय पर इलाज न किया जाए तो यह किसी के लिए भी जानलेवा साबित हो सकता है।

यदि कैंसर एक निश्चित सीमा के भीतर फेल जाएँ तो मरीज (patient) को बचाना मुश्किल है लेकिन समय रहते गले के कैंसर के लक्षण को पहचानकर मरीज (patient) की जान बचाई जा सकती है। 

इन सभी समस्याओं को मद्देनजर रखते हुए हमने बताया है – गले का कैंसर क्या है, प्रकार, गले के कैंसर के लक्षण, बचाव और इलाज। 

गले का कैंसर क्या है ?(What is throat cancer)

Gale ka Cancer (Throat cancer) एक गंभीर और खतरनाक बीमारी है। यह बीमारी गले की कोशिकाओं से शुरू होकर Tonsil और  Larynx तक फेल सकता है।

यह बीमारी ज्यादातर उन लोगो को होती है जो अत्यधिक धूम्रपान और शारब का सेवन करते है। 

लोगो के गले में एक नली होती है जो नाक के पीछे से शुरू होकर गर्दन में समाप्त होती है। हमारे गले के ठीक नीचे कंठ नली होती है जो आवाज निकालने के लिए हिलती-डुलती रहती है। इस कंठ नली के लिए कैंसर अतिसंवेदनशील है।

यह कंठ नली बहुत ही नरम है और कैंसर के लिए अतिसंवेदनशील है इसके नरम होने के कारण ही गले का कैंसर इसके किसी भाग को प्रभावित भी कर सकता है।

वैसे तो गले के कैंसर के इलाज के लिए कई तरिके है जिसकी मदद से आप इस बीमारी से राहत पा सकते है क्योंकि इस बीमारी से जितना जल्दी छुटकरा मिले उतना ही आपके लिए फायदेमंद है। 

गले के कैंसर के प्रकार (Types of throat cancer)

  • नासोफेरींजल कैंसर
  • ओरोफेरीन्जियल कैंसर
  • Hypopharyngeal कैंसर
  • ग्लॉटिक कैंसर
  • सुप्राग्लॉटिक कैंसर
  • सबग्लोटिक कैंसर 

नासोफेरींजल कैंसर

नासोफेरींजल कैंसर आपके नाक के पीछे के हिस्से में होता है यानि यह गले की नली की ऊपरी हिस्से में होता है। नासोफेरींजल कैंसर भी गले के कैंसर का प्रकार है। 

ओरोफेरीन्जियल कैंसर

ओरोफेरीन्जियल कैंसर सिर और गर्दन का कैंसर होता है। यह कैंसर मुंह के पीछे वाले हिस्से और गले को प्रभावित करता है। हर साल हजारो लोग इस कैंसर से रोगग्रस्त होते है। 

Hypopharyngeal कैंसर

Hypopharyngeal कैंसर खाने की नली और साँस की नली की ऊपर होता है जोकि गले के निचले हिस्से से शुरू होता है।  

ग्लॉटिक कैंसर

ग्लॉटिक कैंसर Vocal chords से शुरू होता है। ग्लॉटिक कैंसर भी  गले के कैंसर एक प्रकार है।

सुप्राग्लॉटिक कैंसर

सुप्राग्लॉटिक कैंसर गले के ऊपरी हिस्से से शुरू होता है।

सबग्लोटिक कैंसर 

सबग्लोटिक कैंसर आपके कंठ नली के किसी हिस्से से शुरू होता है।

गले के कैंसर के कारण (Causes of throat cancer)

गले के कैंसर के लक्षण (symptoms of throat cancer)

Gale ka cancer एक गंभीर बीमारी है। यह कैंसर गले की कोशिकाओं में बदलाव के कारण शुरू होता है। यदि इस बीमारी का समय रहते इलाज नहीं कराया गया तो यह आपके लिए ज्यादा समस्या खड़ी कर सकता है।

गले के कैंसर के कई कारण है जैसे –

  • पहला कारण है कि अत्यधिक शराब का सेवन करना या लम्बे समय से शराब को पीते रहना।
  • दूसरा कारण है कि गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स रोग के कारण यानि एक पुरानी समस्या है जिसमे सामन्य रूप से एसिड खाने की नली (अन्नप्रणाली / अन्ननली) में चला जाता है।

  • तीसरा कारण है कि यह बीमारी लिंग के कारण यानि पुरषो को अधिक होती है।

  • चौथा कारण है कि धूम्रपान करना या अत्यधिक तंबाकू का सेवन करना।

  • पांचवा कारण है कि पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व को नहीं लेना जैसे प्रोटीन,कार्ब्स,फैट्स और विटामिन-मिनरल्स।

गले के कैंसर के लक्षण (symptoms of throat cancer)

यदि सही समय पर गले के कैंसर के लक्षण को पहचान कर इसका इलाज कराया गया तो यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

  1. गले में कफ या खराश 
  2. मूत्र के माध्यम से रक्त बाहर निकलता है
  3. आवाज में बदलाव आना  
  4. निगलने की समस्या  
  5. दर्द महसूस होना
  6. सांस लेने में परेशानी होना

गले में कफ या खराश (Cough and sore throat)

अगर गले में कफ के साथ-साथ खराश भी आती है और खांसने या थूकने में खून बाहर निकलता है तो ध्यान दें।  जरूरी नहीं है की यह कैंसर ही हो, लेकिन यह जानने के बाद बीमारी के लिए पहले से कदम उठाया जा सकता है। 

मूत्र के माध्यम से रक्त बाहर निकलता है

कई डॉक्टरों के मुताबिक यदि मूत्र के माध्यम से खून बहार निकलता है तो यह कैंसर के लक्षण हो सकते है। जरूरी नहीं है कि यह गले के कैंसर के लक्षण हो। यह दूसरे कैंसर जैसे ब्लॉडर या किडनी का कैंसर हो सकता है।

आवाज में बदलाव आना (Voice changes)

यदि आप की आवाज में बदलाव आ जाता है यानी स्पष्ट रूप से बोलने में कठिनाई होती है या गला बैठ जाता है , तो ये गले के कैंसर के लक्षण हो सकते हैं।

निगलने की समस्या (Swallowing problem)

कैंसर का एक और लक्षण है कि इसमें निकलने और पीने में समस्या होती है ऐसा लगता है मानो कि गले में कुछ अटका हुआ हो तो यह एक कैंसर का कारण बन सकता है।

दर्द महसूस होना (Feel pain)

देखो हर तरह का दर्द कैंसर का कारणनहीं हो सकता है लेकिन अगर दर्द बना रहे तो वह गले का कैंसर (symptoms of throat cancer) भी हो सकता है। डॉक्टरों के मुताबित कान और गर्दन का दर्द गले के कैंसर के लक्षण में से एक है। 

सांस लेने में परेशानी होना (Having trouble breathing)

साँस लेने या छोड़ने में समस्या होना, तो यह गले के कैंसर का लक्षण हो सकता है। कई डॉक्टरों के मुताबित यदि लम्बे समय तक साँस लेने या छोड़ने में कठिनाइयां महसूस होती है तो वह एक कैंसर भी हो सकता है।

गले के कैंसर से बचाव (Throat cancer prevention)

गले के कैंसर से बचना सभी के लिए महत्वपूर्ण है। अगर आपने समय रहते इसके बचाव पर ध्यान दिया, तो इससे बचा जा सकता है वरना यह किसी लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। 

  • धूम्रपान न करें (Do not smoke)
  • शराब न पियें (Do not drink alcohol)
  • संतुलित आहार खाएं (Eat a balanced diet) 

धूम्रपान न करें (Do not smoke)

माना जाता है कि गले के कैंसर का सबसे बड़ा कारण धूम्रपान होता है यदि आप धूम्रपान को कम कर दें या हमेशा के लिए छोड़ दे तो इस कैंसर से बचा जा सकता है वरना यह आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है।

शराब न पियें (Do not drink alcohol)

वैसे तो शराब का सेवन करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है अगर इसका इस्तेमाल सही ढंग से किया जाए इससे हमे कुछ फायदे भी हो सकते है।

लेकिन यह तभी संभव है जब इसको डॉक्टरों के सलहा के अनुसार किया जाएँ।

संतुलित आहार खाएं (Eat a balanced diet)

अगर आप एक संतुलित आहार खाते हैं तो गले का कैंसर से बचा जा सकता है।  एक संतुलित आहार में सही मात्रा में प्रोटीन, कार्ब्स, फैट्स और विटामिन-मिनरल्स जैसे पोषक तत्वों को शामिल होते है।

अगर आप  इन सभी चीजों को सही मात्रा में लेते है तो यह आपके लिए एक  स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखेगा।

गले के कैंसर का इलाज (Treatment of throat cancer)

कैंसर एक बड़ी बीमारी है। यदि इस बीमारी का सही दवा और उपचारों के साथ इलाज नहीं किया जाता है, तो एक बड़ी समस्या पैदा हो सकती है।

विकिरण चिकित्सा (radiation therapy)

इस उपचार का प्रयोग कैंसर की कोशिकाओं को समाप्त करने के लिए किया जाता है। विकिरण चिकित्सा एक्सरे और किसी ऊर्जा वाली किरण का उपयोग करके इसे कैंसर को समाप्त करने की कोशिश करते है।

शुरुवात के समय ट्यूमर छोटा होता है और यह  विकिरण चिकित्सा का उपयोग करके इस कैंसर से छुटकारा दिलाते है।

सर्जरी (Surgery)

गले के कैंसर के लक्षण को पहचानकर इसका इलाज कराने के लिए सर्जरी का सहारा लिया जाता है। इस कैंसर को हटाने के लिए कई कई प्रकारो की सर्जरी का उपयोग किया जाता है।

कई सर्जरियों में ट्यूमर बड़ा होने के कारण गले का कुछ हिस्सा सर्जरी की मदद से निकालना पड़ सकता है या कई दूसरी सर्जरियों में कंठ नली या कंठ नली का कुछ हिस्सा निकलना पड़ सकता है।

कीमोथेरेपी (Chemotherapy)

इस थेरेपी में कुछ ड्रग्स का उपयोग करके कैंसर कोशिकाओं को समाप्त करने के लिए किया जाता है।

डॉक्टरों की सलहा से ड्रग्स का इस्तेमाल कैंसर की  कोशिकाओं को सिकोड़ने या खत्म करने के लिए कीमोथेरेपी (Chemotherapy) का उपयोग किया जाता है।

दवाएं (Medicines)

कुछ दवाइयां ऐसी है जो इस बीमारी से छुटकारा दिलाने में कारगर है। गले के कैंसर के लिए डॉक्टरों द्वारा कुछ लक्षित दवाइयां है जिनका प्रयोग करके इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है।

अगर आप डॉक्टरों की सलहा से ही लक्षित दवाइयां का उपयोग करते है तो निश्चित ही आप इस बामारी की छुटकारा पा सकते है।


Spread the love

This Post Has One Comment

Leave a Reply