ध्यान कैसे लगाएं -Dhyan kaise lagaye | Meditaion in Hindi

Dhyan kaise lagaye

Dhyan Kaise Lagaye (Meditation in hindi)

तन और मन को स्वस्थ रखने के लिए ध्यान करना सबसे अच्छा उपाय माना जाता है। चाहे आज का समय हो या प्राचीन काल का सभी प्रसिद्ध और महान हस्तियों ने ध्यान का पालन करके, इनके लाभ और महत्व को स्वीकारा है।

आजकल, ध्यान सिखाने के लिए कई ऐसे केंद्र या संस्थाएं हैं जोकि अपने-अपने तरीको से मेडिटेशन करना सिखाते हैं।

लेकिन आज हम इस लेख के माध्यम से घर बैठे Dhyan Kaise Lagaye किया जाता है बिलकुल सरल और सिंपल भाषा में बताएंगे।

तो चलिए जान लेते है – ध्यान कैसे लगाएं  (How to Meditate in Hindi)

ध्यान क्या है ? (What is meditation in Hindi)

ये सभी जानते हैं कि ध्यान क्या है? लोग कहते हैं कि ध्यान एक मुद्रा में बैठकर मानसिक एकाग्रता है, अर्थात ध्यान एक चीज़ पर ध्यान केंद्रित करना है और कुछ लोगों के अनुसार ध्यान शांति है।

वास्तव में ध्यान को यह कहा जा सकता है। आज के युग में आदमी के विचारो को रोकना काफी कठिन काम है। लेकिन नामुमकिन नहीं है।

ध्यान अपने आप में ही विचारो को रोकना है इसमें किसी की सहायता की जरूरत नहीं है। बल्कि, दिमाग अपने आप ही शांत रहने की अवस्था है। इसमें, शारीरिक और मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक रूप से शांति महसूस की जाती है।

इसमें विचारो के उथल-पुथल को रोककर शांत अवस्था यानि अतीत और भविष्य की चिंता किये बिना वर्तमान में जीना है।

आप बात आती है इसको किया कैसे जाये। तो चलिए जान लेते है ध्यान कैसे लगाएं (Dhyan kaise Lagaye)

ध्यान कैसे लगाएं - Dhyan Kaise lagaye | How To Meditate in Hindi

Meditation in hindi
  1. एक शांत जगह चुनें (Choose a quiet place)

  2. इयरप्लग का इस्तेमाल करें (Use earplugs)

  3. बैठने के लिए कुर्सी या गद्देदार चीज का इस्तेमाल करें (Use a chair or padded seat)

  4. ध्यान केंद्रित करने के लिए योगासन चुनें (Choose yoga to sit)

  5. दीवार की ओर ध्यान केंद्रित करें (Focus on the wall)

1. एक शांत जगह चुनें (Choose a quiet place)

ध्यान केंद्रित करने के लिए सबसे पहले किसी शांत जगह का चुनाव करें। क्योंकि, ज्यादातर यह पाया गया है कि आस-पास के शांत वातावरण के साथ आपका दिमाग और शरीर भी शांत रहता है।

तो मेडिटेशन या ध्यान केंद्रित करने का मूल मंत्र शांत जगह है। यह आपको एकाग्रता के साथ तन-मन और शरीर को संतुलित रखने में भी मदद करेगा।

अगर आप ऐसी जगह का चयन करते है, जहाँ गाड़ियों की आवाज, बच्चो के खेलने या भवन-निर्माण का कार्य चल रहा है तो आप अपने मन और दिमाग को शांत नहीं रख पाएंगे।

2. इयरप्लग का इस्तेमाल करें (Use earplugs)

बाहरी आवाज या शोर-शराबे से बचने के लिए इयरप्लग का इस्तेमाल करें। क्योंकि इयरप्लग बाहरी आवाज को दूर करने के लिए कारगर है। यह उपकरण विशेष रूप से इस प्रकार डिज़ाइन किए गए हैं ताकि बाहरी ध्वनि को रोका जा सकें।

इस प्रकार के उपकरण आपको किसी भी ऑनलाइन ई-कॉमर्स वेबसाइट या जनरल स्टोर पर आसानी से मिल सकते है।

अगर आप किसी शांत जगह का चुनाव नहीं कर पा रहे है तो इस उपकरण के इस्तेमाल से बाहरी आवाजों को रोका जा सकता है। जिससे की आपकी एकाग्रता में वृद्धि होगी।

3. बैठने के लिए कुर्सी या गद्देदार चीज का इस्तेमाल करें (Use a chair or padded seat)

ध्यान लगाने के लिए एक कुर्सी या गद्दे का उपयोग करें। क्योंकि, इससे आपकी ऊर्जा जमीन में सीधे जाने के बजाय, ध्यान केंद्रित करने में मदद करेगा। बल्कि एक ऐसा साधन को चुनें जिस पर आप 30 से 40 मिनट तक आराम से बैठ सकते है।

लेकिन ध्यान रखें की इसका मतलब यह नहीं है कि आप आरमदायक साधन को चुनकर उस पर ही सो जायेंं। ध्यान केंद्रित करने का मतलब होता है कि लगातार एक ही चीज, वस्तु, स्थान या बिंदु पर Focus करते रहे ।

4. ध्यान केंद्रित करने के लिए योगासन चुनें (Choose yoga to sit)

योग शिक्षकों के अनुसार ध्यान केंद्रित करने के लिए सबसे अच्छा आसन सुखासन या पद्मासन है। क्योंकि, यह आसन ध्यान केंद्रित करने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।

इस स्थिति में बने रहने से एक तो आपकी रीड की हड्डी सीधी रहती है जो कमर दर्द से छुटकारा दिलाने में मदगार है और दूसरा एक जगह ध्यान केंद्रित करने में सहायक है।

हमारे द्वारा यह सलहा दी जाती है कि कभी भी मेडिटेशन या ध्यान केंद्रित करने के लिए सुखासन या पद्मासन स्थिति बनाये।

5. दीवार की ओर ध्यान केंद्रित करें (Focus on the wall)

ध्यान के लिए, दीवार की ओर मुँह करके दीवार के अंदर देखने का प्रयास करें। जब आपको पलकें झपकने का अहसास हो तो पलके झपकायें। केवल कुछ क्षणों के लिए अपने जीवन के सभी दुख-सुख को भुलाकर एक जगह देखने की कोशिश करें।

लेकिन, अगर आपको अपनी आंखें खोलने और सीधे देखने में कठिनाई होती है, तो आंखों को बंद करने की कोशिश करें और मन की गहराइयों में देखें।

और ध्यान रखें की हमेशा मेडिटेशन या ध्यान लगाते समय पेट को खाली रखें। क्योंकि ऐसा न करने से पेट से संबंधित समस्या उजाकर हो सकती है और दूसरा योगासन में कुछ आसन ऐसे है जो खाली पेट किये जाते है।

ध्यान लगाने का सही समय (Meditation karne ka sahi samay in Hindi)

ध्यान लगाने का सही समय और सही स्थान कभी भी और कहीं भी हो सकता है। हालांकि, इसका उत्तम समय सुबह और रात के वक्त माना जाता है। क्योंकि, उस समय दुनिया शांत रहती है और बाहरी शोर-शराबा कम हो जाता है।

इसीलिए सुबह और रात के वक्त को ध्यान लगाने के लिए सबसे उत्तम माना जाता है।

अगर, आप एक ही समय पर चाहे सुबह हो या रात रोज़ाना ध्यान लगाते है तो यह सबसे सर्वोत्तम होता है। क्योंकि, एक ही समय करने से संतुलन बना रहता है और ध्यान लगाने में भी आसानी होती है।

ध्यान लगाने के फायदे (Benefits of meditation in Hindi)

मेडिटेशन करने के बहुत सारे फायदे है। यह चिकित्सक द्वारा प्रमाणित हो चूका है कि मेडिटेशन या ध्यान लगाने से शरीर को बहुत सारे फायदे है। 

तो चलिए जान लेते है Dhyan Lagane ke Fayde (Meditation Benefits in Hindi)

  1. एकाग्रता में वृद्धि करता है (Increases concentration)

  2. BP (ब्लड प्रेशर) को कम करता है (Reduce Blood Pressure)

  3. तनाव को कम करता है (Reduces stress)

  4. चिंता में कम आती है (Reduce Anxiety)

  5. भूलने की आदत को कम करता है (Reduces forgetting habit)

1. एकाग्रता में वृद्धि करता है (Increases concentration)

मेडिटेशन करने से एकाग्रता बढ़ती है। अध्ययनों में पाया गया है कि ध्यान केंद्रित करने से जिस शक्ति और धैर्य की ज़रूरत होती है, यह उसमे बढ़ोतरी करता है। जिसके कारण एकाग्रता (concentration) में वृद्धि होती है।

शोधों में यह भी पाया गया है कि कुछ समय के बाद थोड़ा ध्यान लगाने से कई फायदे हो सकते हैं। जिनमें से एक ध्यान करने की आपकी क्षमता को बढ़ाता है।

2. तनाव को कम करता है (Reduces stress)

देखा गया है कि लोग तनाव को कम करने के लिए मेडिटेशन का उपयोग करते हैं। क्योंकि, यह प्रमाणित हो चुका है कि ध्यान लगाने से तनाव में कमी आती है।

शोधो में पाया गया है कि Meditation करने से तनाव संबंधित स्थितियों में सुधार आता है। इसीलिए लोग तनाव, चिड़चिड़ाहट, किसी चोट में होने वाले तनाव को कम करने के लिए ध्यान लगाते है।

3. चिंता में कम आती है (Reduce Anxiety)

शरीर से तनाव जितना कम होगा, चिंता उतनी ही कम होगी। क्योंकि तनाव (Stress) के साथ चिंता में भी कमी आती है और चिंता के कारण होने वाले रोग जैसे समाज का डर, लोग क्या कहेंगे और Phobia  जैसे बीमारिया दूर होती है।

अगर आप ध्यान की मुद्रा में बैठ कर एकटक इसका अभ्यास करेंगे तो घर की चिंता, ऑफिस की चिंता, करियर से संबंधित चिंता आदि दूर हो जाती हैं।

4. BP (ब्लड प्रेशर) को कम करता है (Reduce Blood Pressure)

मेडिटेशन करने से तन और मन दोनों स्वस्थ रहते हैं। क्योंकि हृदय पर पढ़ने वाले दबाव को यह कम करता है जिससे शरीर में चुस्ती व फुर्ती का संचार होता है जो शारीरक स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा है।

शोधो में पाया गया है कि मेंडिडेशन तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करने में मदद करता है, जिससे रक्तचाप में कमी आती है।

5. भूलने की आदत को कम करता है (Reduces forgetting habit)

अध्ययनों से पता चला है कि मैडिटेशन करने से भूलने की आदत या समस्या कम हो जाती है। यह समस्या ज्यादातर बुजुर्गों में पाई गई है, लेकिन मैडिटेशन का सही अभ्यास याददाश्त, एकाग्रता और मस्तिष्क की तेज़ी को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

यदि आप नियमित और निरंतर रूप से मेडिटेशन का अभ्यास करते हैं, तो यह भूलने की समस्या या आदत को कम करने में मदद करेगा।

निष्कर्ष (Conclusion) - Dhyan Kaise Lagaye

आपको सिर्फ अपने सांसो पर फोकस करना है। साँस को धीरे से छोड़ना है और धीरे से अंदर लेना है। अगर आपको लगता है कि साँस लेने की प्रक्रिया के दौरान समस्या पैदा होती है तो आप 1-10 गिनती का प्रयोग कर सकते है।

या फिर आप अपने गुरु या ॐ का उच्चारण कर सकते है।

अगर आपको हमारा आर्टिकल अच्छा लगा तो हमे Comment के जरिये जरूर बताएं।

1 thought on “ध्यान कैसे लगाएं -Dhyan kaise lagaye | Meditaion in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *