जुकाम से राहत पाने के लिए घरेलू उपाय जाने

खांसी जुखाम हर बदलते मौसम के साथ आने वाली समस्या है। खांसी बैक्ट्रियल वायरल इन्फेक्शन , एलर्जी साइनस इनफेक्शन या ठंड के कारण जुकाम हो सकता है। लेकिन हमारे देश में हर परेशानी के लिए लोग डॉक्टर के पास नहीं जाते हैं। क्योंकि हमारे किचन में घरेलू नुस्खे से जुड़ी कई चीजें मौजूद हैं। जुकाम से पीड़ित होने के कई कारण हो सकते हैं। मौसम में बदलाव होने के कारण कई लोगों को जुखाम हो जाती है। तो अनेक लोग को ठंडी चीज खाने या नमी युक्त वातावरण में रहने से भी जुखाम से ग्रस्त हो जाते हैं। आमतौर पर जुखाम से होने पर लोग सीधे एलोपैथिक दवा लेते हैं। और घरेलू उपचार को इग्नोर करते है। लेकिन ऐसा नहीं है घरेलू उपचार से भी जुखाम को ठीक किया जा सकता है।

जुकाम क्या है

जुकाम को नजला भी कहते हैं। यह स्वसन तंत्र में संक्रमण के कारण होने वाला रोग है। इसमें व्यक्ति की नाक प्रभावित होती है सामान्य जुकाम वायरस के संक्रमण के कारण होता है। जुकाम होने का सबसे आम कारण राइनो वायरस का संक्रमण है। जुकाम में व्यक्ति को नाक से पानी बहने लगता है। और छींक आने लगती है। इसके साथ ही गले की खराश , नाक बंद होना जैसे आदि समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

क्या है जुकाम के लक्षण

  • नाक से पानी बहना
  • कान में खुजली होना
  • गले में खराश होना
  • नाक बंद होना
  • सिर दर्द होना
  • सिर दर्द भारी होना
  • आंख में जलन होना
  • सोते हुए परेशानी होना
  • भूख ना लगना
  • नाक लगातार बहते रहना
  • बार-बार प्यास लगना

जुकाम होने के क्या कारण है।

जुकाम ज्यादातर वायरस के संक्रमण के कारण होता है। सौ से अधिक वायरस से जुकाम होने के कारण माने गए हैं। लेकिन मुख्य रूप से दो निम्न वायरस ही सामान्य जुकाम के लिए उत्तरदायी है। कोरोनावायरस, राइनोवायरस ।

जुकाम होने के चरण

सर्दी जुकाम की समस्या अधिकतर 14 दिन तक बनी रहती है। इन 14 दिन के बीच सर्दी जुकाम की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए इसे तीन चरणों में बांटा गया है।

पहला चरण

यह सर्दी जुकाम के शुरुआती दिनों की स्थित होती है। इस चरण में सर्दी जुकाम से ग्रस्त व्यक्ति की ज्यादा तकलीफ नहीं होती। इस दौरान नाक का बहना और हल्का जुखाम हो सकता है। जिसके जल्दी ठीक होने की संभावना होती है।

दूसरा चरण

सर्दी जुकाम का दूसरा चरण में 5 दिन के बाद शुरू हो सकता है। ऐसे में सर्दी जुकाम से जूझ रहे व्यक्ति की नाक ज्यादा बहने लगती हैं । और गले में खराश की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इस दौरान लगातार छींकें भी आती हैं।

तीसरा चरण

सर्दी जुकाम के लक्षण अगर 7 से 10 दिन तक ठीक नहीं होते ,तो इसे तीसरे चरण कहा जाता है । यह तीसरा चरण लगभग 14 दिन तक रह सकता है ।ऐसे में आप डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। क्योंकि इससे लगातार नाक बहने गले में खराश होने ,चेस्ट चेस्ट में दर्द होने ,छींकने पर दर्द और खांसने में दिक्कत होती है।

जुकाम ठीक करने के लिए घरेलू इलाज क्या है

जुकाम ठीक करने के घरेलू इलाज निम्न है।

  • हल्दी और दूध
  • तुलसी
  • मेथी और अलसी
  • हल्दी और अजवाइन
  • काली मिर्च
  • सरसों का तेल
  • अदरक
  • लहसुन
  • गाय का देसी घी

हल्दी और दूध

हल्दी और दूध को बहुत ही उत्तम माना गया है । दूध हमारे शरीर की हड्डी मजबूत करने के लिए कारगर है। उसी प्रकार हल्दी छोटे-मोटे इलाज करने में सक्षम है। एक गिलास गर्म दूध में दो चम्मच हल्दी पाउडर डालकर पिए। इससे नाक बहना ,गले की खराश होना इन सभी बीमारियों से आराम मिलेगा और नाक बहना बंद हो जाएगा।

तुलसी

जैसा कि हम जानते हैं। कि तुलसी हमारे भारत के ज्यादातर हर घर में मिल जाती है। तुलसी एक रामबाण इलाज है। जुकाम में तुलसी अमृत के समान फल देती है। खांसी और जुकाम होने पर 7 पत्तियों को पीसकर पानी में डालकर काढ़ा बना लें। अब इस काढ़े को पिए । नाक बंद होने पर तुलसी बीच रूमाल से सूंघने पर आराम मिलता है। छोटे बच्चों में जुखाम होने से अदरक और तुलसी के रस को शहद में मिलाकर चटाने से नाक खोलने में आराम मिलता है।

मेथी और अलसी

मेथी और अलसी को 34 ग्राम की मात्रा में लेकर एक गिलास से पानी में उबालें। जब अच्छी तरह से उबल लें। अब इसकी तीन से चार बूंद को नाक में डालें और सर्दी जुकाम जरा मिलेगा।

हल्दी और अजवाइन

10 ग्राम हल्दी और 10 ग्राम अजवाइन को एक कप पानी में डालकर पकाएं ।जब पानी आधा रह जाए। तो इसमें थोड़ा सा गुड़ मिलाकर पिए। इससे जुखाम में आराम मिलता है। और बहना भी बंद हो जाती है।

काली मिर्च

काली मिर्च के चूर्ण को शहद के साथ चाटने से जुकाम में आराम मिलता है। और नाक से पानी बहना कम हो जाता है। आधा चम्मच काली मिर्च का चूर्ण और एक चम्मच मिश्री मिलाकर एक गिलास गर्म दूध के साथ दिन में 2 बार अपने आपको आराम मिलेगा।

सरसों का तेल

सरसों का तेल बहुत ही उत्तम इलाज माना गया है। सोते समय दोनों नाक के कछिद्रों पर दो-दो बूंद सरसों का तेल डालकर सोए नाक में किसी प्रकार का रोग नहीं होगा।

अदरक

कपयुक्त खांसी में दूध में अदरक उबाल कर पीने से जुकाम में राहत मिलती है। साथ ही अदरक के रस में शहद मिलाकर चाटने से भी जुखाम में आराम मिलता है। अदरक के एक दो टुकड़े को दो काली मिर्च दो लोंग 5 तुलसी की ताजी पत्तियां पीसकर एक गिलास पानी में उबाल लें। जब यह उबालकर आधा गिलास रह जाए तो इसमें एक चम्मच शहद की मिलाकर पिए। अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े को देसी घी में भूनकर दिन में तीन चार बार पीसकर खाएं। इससे नाक से पानी आने की समस्या में आराम मिलेगा।

लहसुन

लहसुन में एलीसिन नामक रसायन होता है। जो एंटी बैक्टीरियल एंटी वायरल एंटी फंगल होता है। यह सर्दी जुकाम के संक्रमण को दूर करता है। इसके लिए चार से पांच लहसुन की कलियों को घी में भूनकर खाएं। आपको जल्द राहत मिलना शुरू हो जाएगा ।

गाय का देसी घी

गाय का शुद्ध देसी घी को पिलाने से जुकाम में राहत मिलती है। साथ ही दो बूंदे सुबह शाम नाक में डालें। टिकला कर दो बूंद सुबह शाम नाक में डालें ऐसा नियमित रूप से करने से 3 महीने तक करें सर्दी जुखाम ठीक हो जाएगा।

जुकाम से राहत पाने के लिए अन्य घरेलू नुस्खे

  • सोंठ, छोटी पीपल और छोटी इलायची के बीज को 4 ग्राम की मात्रा में लेकर गुड़ के साथ पीस लें। इसकी एक 1 ग्राम की छोटी गोलियां बना लें। एक एक गोली रोज रात में सोने से पहले गुनगुने पानी के साथ लेने से जुकाम ठीक हो जाता है।
  • नाक की दोनो छिद्रों में ताजा गोमूत्र की दो दो बूंदे सुबह शाम डालें।
  • बहती नाक से परेशान है । तो चिरायता , सोंठ अडूसे तथा कटेरी की जड़ को 5-5 ग्राम की मात्रा में काढ़ा बनाकर भी हैं।
  • कलौंजी के बीजों को तवे पर भून कर कपड़े में लपेटकर सूंघने से मिलता है।
  • आधा चम्मच दालचीनी को एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर खाएं आराम मिलेगा।

जुकाम में कैसा हो आपका खान-पान

  • आधा चम्मच मूली के बीजों का चूर्ण शहद शहद के साथ चांटे ।
  • पके हुए अमरुद को ऊपर वाले भाग को आग में हल्का भून कर खाएं।
  • जीरे का चूर्ण ,घी और शक्कर के साथ मिलाकर खाएं। आपकी नाक बहना बंद हो जाएगी ।
  • जायफल को पीसकर इसकी एक चुटकी की मात्रा को दूध में मिलाकर पिए हैं। जुकाम ठीक हो जायेगा।
  • गुड़ और घी को समान मात्रा में लेकर मिला लें। इसे गर्म करके रात में सोते वक्त एक चम्मच की मात्रा में लें। जुकाम में आराम मिलेगा।

जुकाम में आपकी जीवनशैली और क्या करें परहेज

गर्म वातावरण से आकर तुरंत ठंडे पानी से स्नान ना करें। एसी में ना बैठे। जुखाम संक्रमण से होने वाला रोग है। पहले भोजन करने से पहले हाथों को अच्छी तरह अच्छी तरह धुल लें। धूल एवं प्रदूषण युक्त वातावरण पर चेहरे पर मास्क लगा लें । और प्राणायाम करें साथ ही 10 से 15 मिनट कपाल भारती रोज करें। आप बदलाव पाएंगे ।

परहेज

  • ठंडी और बर्फ जैसी चीजों का सेवन ना करें
  • दही और चावल का सेवन बिल्कुल ना करें
  • आइसक्रीम और अधिक ठंडे पानी से दूर रहे हैं
  • बर्फ से बनी चीजों से दूरी बनाएं
  • बासी भोजन बिल्कुल ना करें
  • जंग फूड ना खाएं
  • तले हुए भोजन का सेवन बिल्कुल ना करें
  • मौसमी फलों का सेवन करें।

निष्कर्ष

रोकथाम निश्चित रूप से इलाज से बेहतर है। लेकिन कई मायनों में उपयुक्त नहीं है। खांसी और सर्दी के लिए प्रभावी घरेलू उपचार काफी मददगार होते है इसलिए हमने इसके लिए जीवन को थोड़ा और आसान बनाने के लिए आपको सर्दी जुकाम से जुड़े कुछ प्रभावी घरेलू उपचार की सूची आपको बना कर दी है।आप आर्टिकल को पूरा पढ़िए। आपको जानकारी मिलेगी। हालांकि खांसी और सर्दी जुकाम इन तरीकों से नही ठीक होते तो आप घरेलू उपचार करने से पहले हमें डॉक्टर से परामर्श ले सकते है।

Leave a Comment