क्या होता है कांख का दर्द ,कारण ,उपचार की विस्तृत जानकारी

दर्द आपके शरीर के किसी भी पार्ट में हो तो इसे नजरअंदाज करने की गलती बिल्कुल ना करें। अक्सर जब लोगों को कांख या कंधे के नीचे दर्द होता है। तो उसे छोटा-मोटा दर्द समझकर इग्नोर कर देते हैं। और आगे चलकर यही खतरनाक साबित होता है। आप के बगल में हाथ के नीचे एक कांख में दर्द कई तरीके से स्वास्थ्य समस्याओं के संकेत देता है। यह मांसपेशियों के खिंचाव या तनाव के कारण भी होता है। जिसके कारण गंभीर परिणाम देखने को मिलते हैं। यदि आप अपनी एक आंख के नीचे कोई गांठ पाते हैं । तो आप चिंतित महसूस करने लगते है। लेकिन यह चिंता का विषय नहीं है। ज्यादातर मामलों में कांख की गांठ हानिकारक होती है। लेकिन यह जानना महत्वपूर्ण है कि इसके कारण क्या हो सकते हैं। आज हम आपको अपनी आर्टिकल में यह बताने की कोशिश करेंगे कि कांख की गांठ क्या होती है। इसके कारण और उपचार संबंधी पूरी विस्तृत जानकारी देंगे।

कांख की गांठ क्या है

आपका काम आपके कंधे के जोड़ के नीचे स्थित होता है जहां हाथ कंधे से जोड़ता है इसमें नसों और रक्त वाहिकाओं और छोटी ग्रंथियां होती हैं जिन्हें लिंफ नोड्स का के नाम से जाना जाता है कांख की गांठ ऐसे स्थान पर आपकी त्वचा पर कोई वृद्धि है जो सामान्य रूप से नहीं होनी चाहिए गांठ आपके शरीर पर कहीं भी दिखाई दे सकती है यदि आपको एक गांठ नजर आती है तो इसे अनदेखा ना करें तुरंत उपचार करें या तो फिर डॉक्टर को दिखाएं

कांच की गांठ के क्या कारण हैं

कांख की गांठ के निम्न कारण है।

  • लिम्फ नोड्स में सूजन
  • सिस्ट
  • लिपोमा
  • स्तन में संक्रमण

लिम्फ नोड्स में सूजन

आपके लिम्फ़ नोडस से आपके शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली में एक अहम भूमिका निभाते हैं। और यदि आपका शरीर किसी संक्रमण से लड़ रहा है तो लिंफ नोड्स ग्रंथियां उस संक्रमण से बचाने का कार्य करती हैं। यह आपके शरीर की सुरक्षा का एक हिस्सा है। आपके अस्वस्थ होने पर अगर लक्षण दिखाई दें तो इसे ठीक करने के लिए आराम करें। और हाइड्रेट रहे। लिम्फ नोड्स के कारण जानने की कोशिश करें।

सिस्ट

सिस्ट तरल से भरा हुआ पदार्थ होता है। जो आपकी त्वचा की सतह के नीचे बनते हैं। कुछ प्रकार के सिस्ट बालों के रोम के चारों ओर बनते हैं। जैसे बांह के नीचे हिस्से के बालों में , आपको बता दें कि सिस्ट आपके शरीर में अधिक स्तर पर पाए जाते हैं। इस प्रकार के सिस्ट आमतौर पर मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं को प्रभावित करते हैं और इसके अनुवांशिक कारण भी हो सकते हैं।

लिपोमा

लिपोमा वसा युक्त नरम गांठ होती हैं। जो आपकी त्वचा के नीचे बढ़ते हैं। यह अक्सर बगल में दिखाई नहीं देते लेकिन जब भी नजर आते हैं। तो चिंता की कोई बात नहीं होती। क्योंकि इन्हें उपचार की जरूरत नहीं होती।

स्तन में संक्रमण

एक स्तन संक्रमण महिला के स्तन के ऊतकों में सूजन का कारण बन सकता है। और कभी-कभी लिम्फ नोड्स मे संक्रमण फैलने के कारण हाथ के नीचे गांठ दिखाई देती है। स्तन कराने वाली महिलाओं में यह अधिक सामान्य है। और आमतौर पर यह केवल एक स्तन को प्रभावित करता है। महिलाओ को इलाज के लिए आपको एंटीबायोटिक की आवश्यकता होती है। जिसे डॉक्टर के पास जाना आवश्यक है।

कांख के दर्द को नजर अंदाज ना करें यह 4 बीमारियां गंभीर हो सकती हैं

कुछ कांख की गांठ को हल्के और सामान्य तरीके से लेते है। जो बाद में गंभीर हो जाती है। आइए बताते है कि कांख की गांठ आपके शरीर में किस प्रकार बीमारियां पैदा कर सकती है।

  • स्किन इन्फेक्शन
  • ब्रेस्ट कैंसर
  • लिंफ नोड्स में सूजन
  • मांसपेशियों में तनाव

स्किन इन्फेक्शन

अगर आपके बगल में दर्द हो रहा है। तो हो सकता है कि आपके कांख का कोई बाल टूट गया हो या फिर कोई घाव हो गया हो, इस तरह स्किन इन्फेक्शन भी बगल के दर्द का कारण हो सकता है। अपनी बाहों के नीचे सेविंग्स ,वैक्सीन आपकी त्वचा में इन्फेक्शन का कारण बन सकती है। कुछ डिओडरेंट या कपड़े धोने के डिटर्जन के एलर्जी की प्रतिक्रिया को ट्रिगर कर सकते है। जिसके कारण आप के बगल में घाव हो सकता है ।चकत्ते ,घाव आदि आपकी त्वचा के लिए हानिकारक हो सकते हैं। इस तरह की गंभीर समस्या से आपको बचना चाहिए क्योंकि आगे चलके यह स्किन कैंसर का रूप ले सकती है।

ब्रेस्ट कैंसर

महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर भी बगल के दर्द का कारण हो सकता है। इस तरह के दर्द को लोग शुरुआती ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण के रूप में भी देखते हैं। स्तन कैंसर तब होता है। जब आपके स्तन में कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से बढ़ने लगती हैं। वे आमतौर पर एक्टिव मनाते हैं। इसलिए इसके शुरुआती फेज पर आप के बगल के आसपास सूजन हो सकता है। इसके कारण आपके लिंफ नोड्स में स्तन कैंसर का प्रसार भी ब्रेस्ट कैंसर के कारण हो सकता है। इसलिए जैसे ही आपका को अपने बाल में सूजन या दर्द महसूस हो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

लिंफ नोड्स में सूजन

आपका लिंफेटिक सिस्टम पूरे शरीर में पाए जाने वाले नोट्स या ग्रंथियों का एक नेटवर्क होता है। लिम्फ एक तरल पदार्थ है। जो संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। शरीर के दोनों तरफ बगल के पास लिम्फ नोट्स की एकाग्रता होती है। अगर आप सर्दी या फ्लू से पीड़ित है। तो आपके लिम्फ़ नोड्स में सूजन हो सकती है। इसके अलावा कई प्रकार के लिंफेटिक सिस्टम के सामान भी बगल में दर्द बन सकते हैं।यह तब होता है जब रुकावट होती है। और थकान भी महसूस होती है। तब आप के बगल में सूजन हो सकता है। इसे लिंफेडनाइटिस कहते हैं। जो धीरे-धीरे संक्रमण इंफेक्शन के रूप में बदल जाता है।

मांसपेशियों में तनाव

आपकी कांख और आसपास की छाती और बांह का क्षेत्र ब्लड वेसल्स ब्लड वेसल्स ,नसों और मांसपेशियों से बना होता है आपके शरीर की अन्य मांसपेशियों की तरह जब इस पर किसी भी प्रकार का जोड़ पड़ता है यह मांसपेशियों में तनाव पैदा हो जाता है मांसपेशियों में खिंचाव के कारण इस बात पर निर्भर करते हैं कि तनाव कितना गंभीर है ऐसी स्थिति में गतिविधि में ब्रेक ले और मांसपेशियों को आराम दे । और बर्फ से सिकाई करें सूजन कम हो जाएग।

कांख में दर्द के उपचार के लिए घरेलू उपचार

  • गर्म पानी का करे इस्तेमाल
  • कांख में दर्द के लिए मालिश
  • तरबूज का उपयोग कांख में दर्द के लिए
  • नींबू रस का फायदा कांख में दर्द के लिए

गर्म पानी का करे इस्तेमाल

गांठ के लिए कांख के इलाज के लिए एक सदियों पुराना और सरल घरेलू उपाय है । जो काफी मददगार है। आपको एक गर्म पानी चाहिए। उसमे छोटा सा तोलिया गर्म पानी में भिगोए और अतिरिक्त भाई निकाल दें। अब इसे कांख पर 10 से 15 मिनट के लिए लगाएं । ऐसा दो तीन बार करें आप को राहत मिलेगी।

कांख में दर्द के लिए मालिश

कांख की गांठ का दर्द ठीक करने के लिए आपको जैतून का या नारियल का तेल लेना है। अपनी उंगलियों पर तेल की एक बूंद लेकर कांख में धीरे-धीरे मालिश करें। दिन में कई बार करने से यह ठीक हो जाएगा।

तरबूज का उपयोग कांख में दर्द के लिए

तरबूज में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। ये गुण रक्त को डिटॉक्सिफाई करने गांठ पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में प्रभावित करती हैं। अगर कांख की गांठ में दर्द हो दर्द हो रहा है। तो नाश्ते में एक गिलास ठंडा तरबूज का जूस लें ऐसा नियमित करें आपको राहत मिलेगी ।

नींबू रस का फायदा कांख में दर्द के लिए

नींबू का रस विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत है। और इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं।यह गांठ के दर्दनाक सूजन को कम करने के लिए मददगार है। आपको ताजा नींबू का रस नियमित रूप से लेना चाहिए। साथ ही नींबू के रस में रुई को डुबोकर बार-बार गांठ में लगाएं और हवा में सूखने दें इससे राहत मिलेगी।

कांख की गांठ को लेकर चिंता कब करनी चाहिए

  • गांठ अगर 2 सप्ताह से अधिक समय की हो गई हो
    गांठ बड़ी हो गई हो तो इलाज के बारे में सोचना चाहिए।
  • शरीर का वजन कम हो रहा हो ,घरेलू उपचार के पास बाद गांठ फिर से निकल आई हो ,हाथ लगातार दर्द कर रहा हो, हाथ में सूजन हो, हाथ उठ ना रहा हो काम करने में दिक्कत आ रही हो

कांख में दर्द के लिए डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए

कभी-कभी बगल की गांठ बिना किसी दर्द या परेशानी के आ जाती है। और चली जाती है। हम इसे इग्नोर कर देते है। और हमें पता भी नहीं चलत। कांख की गांठ के उपचार के लिए घरेलू उपचार का उपयोग करने से भी लाभ नहीं मिलता। ऐसे में यह और तेजी से बढ़ती जाती है। यदि कुछ हफ्ते के बाद अगर आप की गांठ ठीक ना हो रही हो और गांठ कभी छोटी कभी बड़ी हो रही हो तो आप इसके लिए डॉक्टर से तुरंत परामर्श करें। क्योंकि आपको एंटीबायोटिक नुस्खे की आवश्यकता के बावजूद भी आप की गांठ सही नही हो रही है। इन सभी के कारण को देखते हुए आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

निष्कर्ष

जैसे कि यह पता चला है कि सभी गांठ कैंसर नहीं होती है। लेकिन कुछ मामलों में कांख की गांठ शरीर के लिए हानिकारक हो सकती है। इसलिए इससे निपटने के लिए सबसे अच्छा तरीका है कि आप नियमित रूप से अपने शरीर की जांच करवाएं और असमानताओं की जैसी चीजों पर सतर्क रहें । जब आप समय पर कांख की गांठ का पता लगा लेते हैं तभी आप इसे फैलने से रोक सकते हैं। कांख की गांठ का उपचार के लिए हमेशा सतर्क रहें। और छोटी सी समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं क्योंकि घातक हो सकती है।

Leave a Comment